विवादित सम्पति पर जबरदस्ती कब्जा करने को लेकर दो पक्षों में जबरदस्त संघर्ष

जलालाबाद (शामली)। विवादित सम्पति पर जबरदस्ती कब्जा करने को लेकर दो पक्षों में जबरदस्त संघर्ष हो गया, जिसमें कई लोग घायल हो गये। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बलपूर्वक लोगों को तितर-बितर किया व कई लोगों को हिरासत में ले लिया। चिकित्सक पर बाहरी बदमाशों को बुलाकर हथियारों के बल पर जबरदस्ती कब्जा कब्जा करने का आरोप। पुलिस ने आरोपी चिकित्सक को भीड से बचाकर क्लीनिक से निकाला।

जलालाबाद के मौहल्ला मौहम्मदीगंज के बम्बा चौक पर डाक्टर खालिद जमाल रहमानी का रहमानी क्लीनिक है उसी के बराबर मे 600 गज प्लाट पर डा० रहमानी व उसके चचेरे भाईयों जमीर रहमानी फरीद रहमानी निवासी दिल्ली के बीच लम्बे समय से विवाद चला आ रहा है, जबकि उक्त प्लाट पर कब्जा दिल्ली निवासी जमीर आदि का है जिसे उन्होंने फरमान ईलाही जो कबाडी का कार्य करता है को किराये पर दे रखा है षनिवार की दोपहर लगभग 3 बजे डाक्टर खालिद द्वारा अपने क्लीनिक के अन्दर से ही बलपूर्वक दीवार फाडकर कब्जा करने का प्रयास किया जिसका फरमान व उसके बेटों द्वारा विरोध किया जिसको लेकर दोनों पक्षों में जमकर संघर्ष हो गया आरोप है कि डाक्टर द्वारा उक्त प्लाट पर कब्जा करने को बाहर से 4 से 5 हथियार बन्द बदमाशों को बुलाया गया था जिन्होंने हथ्यिारों को लहराते हुए फायरिंग का प्रयास किया, परन्तु बाहरी लोगों को को देख कर मौहल्ले के लोगों ने उन्हें दबोच लिया।

इस बीच झगडे की सूचना पुलिस को दी गई जिस पर एस ओ भवन जो पहले से जलालाबाद चौकी पर मौजूद थे। चौकी प्रभारी पवन सैनी के साथ पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुच गये एवं लाठिया भाजकर वहा से भीड को हटाया व मौके से दो लोगों को हिरासत में ले लिया, जबकि भीड की उग्रता को देखते हुए आरोपी चिकित्सक व अन्य कई लोगों को उसके क्लीनिक में ही बंद कर बाहर से शटर गिरा दिया। मौके पर भारी पुलिस फोर्स को लगाकर भीड को हटाया गया इस बीच दूसरे पक्ष के फरमान इलाही की हालत बिगड गई, जिसे पास के प्राईवेट चिकित्सक के यहां भर्ती कराया गया है।

घटना के करीब एक घन्टे के बाद पुलिस द्वारा आरोपी चिकित्सक डा० खालिद रहमानी के क्लीनिक का शटर खोलकर क्लीनिक के अन्दर से बडी संख्या में डण्डे, खुदाल, हथौडे फाली व अन्य सामान बरामद किया व डाक्टर को भीड से बचाते हुए थाने ले गये एवं क्लीनिक को बंद कर दिया। डा० के जाने के बाद लोगों ने अन्य बदमाशों के क्लीनिक के अन्दर ही होने को लेकर हंगामा किया व क्लीनिक की तलाशी लेने का प्रयास किया, परन्तु पुलिस द्वारा उनकी बातों को नजर अंदाज करते हुए क्लीनिक को बंद करा दिया व मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती कर दी जिससे लोगों को उक्त बदमाशों के अन्दर ही होने की शंका बनी हुई थी। समाचार लिखे जाने तक उक्त मामले में कोई मुकदमा पंजीकृत नहीं किया गया था। उक्त मामले में थानाध्यक्ष कृष्ण कुमार द्वारा पकडे गये लोगो से पूछताछ करने की बात कहकर किसी प्रकार की जानकारी देने से मना कर दिया गया। मौके पर मौजूद मौहल्ले वालों ने बताया कि डाक्टर रहमानी द्वारा 8 से 10 बाहरी बदमाशों को उक्त कार्य के लिए बुलाया गया था, जिनके पास तमंचे व अन्य हथियार थे, जो लाल रंग की स्कार्पियो गाडी से आये थे, जिन्हें पुलिस द्वारा छुपाया जा रहा है।

Share it
Share it
Share it
Top