दीवार गिरने से तीन बच्चे दबे, एक की मौत...गांव बराला कुकरहेड़ी में बरसात के कारण हुआ हादसा, बगैर पीएम के शव दफनाया

दीवार गिरने से तीन बच्चे दबे, एक की मौत...गांव बराला कुकरहेड़ी में बरसात के कारण हुआ हादसा, बगैर पीएम के शव दफनाया

कैराना। क्षेत्र के ग्राम बराला कुकरहेड़ी में मूसलाधार बारिश के कहर ने एक मासूम आठ वर्षीया बच्ची को मौत की नींद सुला दिया। बारिश के कारण गिरी दीवार के नीचे मलबे में तीन बच्चे दब गए थे, जहां से दो बच्चों को जीवित हालत में निकालकर अस्पताल में भर्ती कराया है। हादसे की सूचना पाकर एसडीएम व तहसीलदार ने मौके पर पहुंचकर जानकारी ली। वहीं, परिजनों ने मृतका के शव को बगैर पोस्टमार्टम के सुपुर्द-ए-खाक कर दिया।

रविवार तड़के से ही हो रही मूसलाधार बारिश ने गांव बराला कुकरहेड़ी में कहर ढ़हाया। बारिश के कारण गांव निवासी इंसार के मकान की पक्की इंटों से बनी एक दीवार भरभराकर गली की ओर गिर गई, जिसमें गली से गुजर रही सुमैया (8) व उसकी छोटी बहन साजिया (6) पुत्री बिलाल तथा शहरयान (12) मलबे के नीचे दब गए। हादसे के बाद आसपास के लोगों में चींख-पुकार मच गई, जिस पर मौके पर दर्जनों ग्रामीणों ने मौके पर पहुंचकर मलबे के नीचे दबे बच्चों को किसी तरह बाहर निकाला। लेकिन, तब तक सुमैया की मौत हो चुकी थी, जिससे परिजनों में कोहराम मच गया। हादसे की सूचना पाकर एसडीएम सुरजीत सिंह व तहसीलदार रनबीर सिंह लेखपालों के साथ मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से हादसे के बारे में जानकारी ली। बाद में परिजनों ने मृतक बच्ची के शव को बिना पोस्टमार्टम कराये ही कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया।

4 लाख मुआवजे की संस्तुति भेजी

गांव बराला कुकरहेडी में बरसात के कारण दीवार के नीचे दबकर हुई आठ वर्षीया सुमैया की मौत हो जाने के मामले में स्थानीय प्रशासन ने जिला प्रशासन को मृतका के परिवार को मुआवजा दिलाये जाने के लिए संस्तुति रिपोर्ट भेजी है। तहसीलदार रनबीर सिंह ने बताया कि दैवीय आपदा के तहत 4 लाख रूपये मुआवजे का प्रावधान है, जिसमें रिपोर्ट भेज दी गई है।

Share it
Top