लोकतंत्र के महापर्व पर मतदाताओं में छाया मतदान का खुमार...कैराना लोकसभा सीट पर छिटपुट घटनाओं के बीच मतदान शांतिपूर्ण संपन्न, चाक-चौबंद रही सुरक्षा व्यवस्था

कैराना। प्रथम चरण के तहत कैराना लोकसभा सीट पर मतदान छिटपुट घटनाओं के बीच शांतिपूर्वक तरीके से संपन्न हो गया। इस दौरान लोकतंत्र के महापर्व पर मतदाताओं में मतदान का खुमार और उल्लास देखने को मिला। युवा, बुजुर्गों, महिलाओं और दिव्यांग भी अपने मताधिकार का प्रयोग करने से पीछे नहीं रहे। चुनाव के दृष्टिगत सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहे।

गुरूवार को कैराना लोकसभा सीट पर प्रथम चरण के तहत सुबह सात बजे से मतदान शुरू हुआ। इसके चलते पोलिंग बूथों पर मतदाताओं की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। नगर के इस्लामिया इंटर कॉलेज और पब्लिक इंटर कॉलेज में सबसे ज्यादा बूथ होने के कारण दोनों जगहों पर मतदाताओं की लंबी-लंबी लाइनें देखने को मिली, जहां लोगों ने घंटों तक लाइनों में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार किया। जैसे-जैसे मतदाता अपने वोट डालते गए, वैसे-वैसे भीड़ भी छंटती चली गई। दोपहर के समय क्षेत्र में कई स्थानों पर पोलिंग बूथ सुनसान नजर आए। वहीं, पुलिस ने पोलिंग बूथों के आसपास भीड़ जुटाने वालों को खदेड़ दिया। इस दौरान सुरक्षा के लिहाज से पुलिस और अद्र्धसैनिक बलों के जवान तैनात रहे।

पोलिंग बूथ पहुंचे दिव्यांग, किया मतदान

मतदान को लेकर हर किसी में उत्साह और उल्लास देखने को मिला। जहां बुजुर्गों ने धूप की दबिश के बीच पोलिंग बूथों पर पहुंचकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया, वहीं दिव्यांग भी इससे पीछे नहीं रहे। दिव्यांगों ने व्हील चेयर पर पोलिंग बूथों तक पहुंचकर अपने-अपने मत का प्रयोग किया। वहीं, दिव्यांगों के लिए पोलिंग बूथों पर सुलभ रास्ते की विशेष व्यवस्था की गई थी, जिसके चलते दिव्यांग अपनी व्हील चेयरों पर बूथों के अंदर तक पहुंचे।

कमिश्नर और आईजी ने लिया सुरक्षा का जायजा

कैराना की संवेदनशीलता को देखते हुए यहां पर अधिकारियों की विशेष नजरें गड़ी रही। तीसरे पहर कैराना में सहारनपुर कमिश्नर चंद्र प्रकाश त्रिपाठी व आईजी शरद सचान पहुंचे। उन्होंने पोलिंग बूथों का निरीक्षण करते हुए मतदान और सुरक्षा का जायजा लिया। इस दौरान अधिकारियों ने लाइनों में लगे मतदाताओं से भी बातचीत की। कमिश्नर ने निर्देश देते हुए कहा कि शाम छह बजे एनाउंसमेंट कराने के उपरांत मुख्य गेट बंद कर लिया जाए। वहीं, डीएम अखिलेश कुमार और एसपी अजय कुमार पांडेय ने कैराना में डेरा डाले रखा।

अराजकता से जोड़कर हसन परिवार को बदनाम करने की साजिश: तबस्सुम

कैराना। गठबंधन प्रत्याशी तबस्सुम हसन ने नगर के आर्यपुरी देहात स्थित पोलिंग बूथ पर अपने मताधिकार का प्रयोग किय। गुरूवार सुबह नौ बजे वोट डालने के बाद तबस्सुम हसन मीडिया से रूबरू हुई। उन्होंने कहा कि हाल ही में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैराना के हसन परिवार पर अमर्यादित टिप्पणी करते हुए परिवार को अराजकता से जोड़कर बदनाम करने की साजिश की है, लेकिन जनता सब जानती है। उन्होंने कहा कि भाजपा पूरी तरह से बौखलाई हुई है। विधानसभा चुनाव हो या फिर लोकसभा उपचुनाव। इस बार भी भाजपा को हार का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने आगे कहा कि मुजफ्फरनगर लोकसभा प्रत्याशी संजीव बालियान के बुर्का संबंधी बयान पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि बालियान अक्सर इस प्रकार की टिप्पणियां कर माहौल खराब करने की कोशिश करते हैं। उन्होंने एक समाज को बदनाम करने का भी आरोप लगाया।

हरेंद्र का आरोप, बीजेपी ने रोके समर्थक

कैराना। कांग्रेस प्रत्याशी हरेंद्र मलिक ने कहा कि देशभर में भाजपा से कांग्रेस का मुकाबला है। आरोप लगाया कि बीजेपी ने इस्सोपुर टील, डुंडूखेडा, फतेहपुर, रसूलपुर आदि में उनके लोगों को रोकने का काम किया है, लेकिन, हमें हससे कोई फर्क पडऩे वाला नहीं है। यह भाजपा की बौखलाहट सामने आ रही है। हालांकि, एसडीएम ने शिकायत करने पर कहा कि वे मौके पर जाकर देखेंगे। उन्होंने कहा कि हमारा पंजा ही जीतेगा।

सर...मेरा वोट काट दिया, अब क्या करूं?...युवती ने वोट डालने के लिए प्रशासन से मांगी मदद

कैराना। मतदान के दौरान पब्लिक इंटर कॉलेज में एक युवती अपना आधार कार्ड लेकर पहुंची। यहां उसने अपनी मतदाता पर्ची दिखवाई, लेकिन नहीं मिली। युवती ने प्रशासन से वोट डलवाए जाने के लिए मदद मांगी है।

मोहल्ला आलकलां वार्ड-8 निवासी पिंकी सैनी अपने भाई के साथ पब्लिक इंटर कॉलेज में पहुंची। युवती ने बताया कि वह गुडगांव में कंपनी में नौकरी करती है, जहां से वह मतदान करने के लिए कैराना आई। यहां आकर उसे पता चला कि घर पर बीएलओ ने मतदाता पर्ची ही नहीं दी। इसके बाद उसने पब्लिक इंटर कॉलेज में बीएलओ से अपनी पर्ची दिखवाई, लेकिन उसने लिस्ट में नहीं होने से इंकार कर दिया। युवती का कहना है पिछले चुनाव में उसने अपना वोट किया था, लेकिन इस बार उसका वोट काट दिया गया है। सीधे तौर पर कहें तो इसके लिए बीएलओ को जिम्मेदार ठहराना चाहिए।

ईवीएम-वीवीपैट ने किया परेशान, थमा मतदान...गंदराऊ में लोगों ने किया जमकर हंगामा, पीठासीन अधिकारी पर गंभीर आरोप

कैराना। लोकसभा चुनाव में विभिन्न पोलिंग बूथों पर ईवीएम व वीवीपैट मशीनें तकनीकी खराबी के कारण परेशानी का सबब बन गई। गंदराऊ गांव में ईवीएम खराब होने पर मतदाताओं ने जोरदार हंगामा किया। दूसरी मशीन बदल जाने के बाद घंटों बाद मतदान शुरू कराया गया।

गुरूवार को मतदान चल रहा था। इसी बीच कई पोलिंग बूथों पर ईवीएम-वीवीपैट खराब हो गई। इस्लामिया इंटर कॉलेज में बूथ संख्या 246 पर ईवीएम ने शुरू होने से पहले ही जवाब दे दिया। इस बूथ पर ईवीएम बदले जाने से लगभग 53 मिनट बाद मतदान शुरू हुआ। इसके अलावा बूथ संख्या 250 पर दोपहर लगभग बारह बजे वीवीपैट में तकनीकी कमी आई, जिसके चलते करीब आधा घंटा मतदान प्रभावित रहा। वहीं, पूर्व माध्यमिक विद्यालय आर्यपुरी में स्थित बूथ संख्या 276 पर ईवीएम चलते ही गड़बड़ा गई, जिस कारण 15 मिनट मतदान प्रभावित हुआ। इनके अलावा क्षेत्र के गंदराऊ गांव में मदरसा दारूल उलूम हुसैनिया में स्थित पोलिंग बूथ पर साढ़े 11 बजे ईवीएम में तकनीकी खराबी आ गई, जिसके चलते मतदान कार्य बंद हो गया। इस पर लाइनों में लगे मतदाताओं ने जोरदार हंगामा शुरू कर दिया। मतदाता पोलिंग कमरे के अंदर तक पहुंच गए। उन्होंने पीठासीन अधिकारी पर गंभीर आरोप लगाए। आरोप लगाया कि वह पक्षपात कर रहा है और कुछ के वोट खुद ही डाल रहा है। उन्होंने अभद्रता का भी आरोप लगाया। यहां डेढ घंटे बाद एक बजे मशीन के बदले जाने के बाद मतदान शुरू हुआ।

मृगांका बोली, भाजपा की जीत निश्चित

कैराना। भाजपा नेत्री मृगांका सिंह ने वोट डालने के बाद मीडिया से कहा कि चुनाव में मोदी फैक्टर चल रहा है। पीएम मोदी ने देश में ऐसा किया है, जो कोई नहीं कर सकता। उन्होंने जवानों की शहादत का बदला आतंकियों पर तत्काल हमला कर किया। उनमें निर्णय लेने की क्षमता बहुत है। उन्होंने सवाल के जवाब में कहा कि अब लोग पलायन नहीं, गुंडों का पलायन हो रहा है। लोग शांतिप्रिय माहौल मिलने से अपने घरों को लौट रहे हैं। भाजपा यानि हमारे प्रत्याशी की जीत निश्चित होगी।

मतदान से पहले हुआ मॉक पोल

कैराना। चुनाव में अक्सर देखने में आता है कि मतदान को लेकर प्रत्याशियों के एजेंट आपस में भिड़ जाते हैं। कई बार पोलिंग कर्मचारियों पर भी सवाल खड़े कर दिए जाते हैं। इन सब विवादों से बचने के लिए गुरूवार को मतदान से पहले मॉक पोल कराया गया। इस दौरान प्रत्याशियों के एजेंटों को वोट डालकर दिखाए गए। इसके बाद ही मतदान शुरू हुआ।

नाहिद ने किया मतदान

कैराना। विधायक चौधरी नाहिद हसन ने पब्लिक इंटर कॉलेज में पहुंचकर तीसरे पहर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इनके अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल चौहान व मृगांका सिंह ने भी कॉलेज पहुंचकर अपना वोट डाला।

कंडेला में संघर्ष की झूठी सूचना ने पुलिस को थकाया

कैराना। विधानसभा क्षेत्र में लोकसभा का शांतिपूर्ण मतदान चल रहा था। इसी बीच दोपहर के समय पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना मिली कि कंडेला गांव में संघर्ष की सूचना मिली, जिस पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों में खलबली मच गई। आनन-फानन में एसडीएम डा. अमित पाल शर्मा और सीओ राजेश कुमार तिवारी भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे, लेकिन वहां पर ऐसा कोई मामला नहीं पाया गया।

गांव भूरा पर रही कड़ी नजर, कराई वैब कास्टिंग

कैराना। उपचुनाव से सबक लेते हुए इस बार भूरा गांव पर प्रशासन की कड़ी नजर रही। यहां पर निष्पक्ष चुनाव के लिए वैब कास्टिंग कराई गई। गांव भूरा अतिसंवेदनशीलता की श्रेणी में आता है। उपचुनाव में यहां बवाल हो गया था। पथराव और पोलिंग पार्टी से मारपीट कर दी गई थी। दो दलों के समर्थकों के बीच हुए बवाल के दौरान पीठासीन अधिकारी का सिर भी फोड दिया गया था। इसी को जेहन में रखते हुए प्रशासन की इस बार कड़ी नजर रही। यहां पोलिंग बूथों पर कैमरे लगाकर वैब कास्टिंग कराई गई, ताकि चुनाव को निष्पक्ष तरीके से शांतिपूर्ण संपन्न कराया जा सके। बताया जा रहा है कि विधानसभा कैराना क्षेत्र में भूरा गांव समेत 36 पोलिंग बूथों पर वैब कास्टिंग कराई गई।

बीएसएफ के जवान ने ग्रामीण को पीटा, वीडियो वायरल

कांधला। मतदान के दौरान हंगामा होने पर कई जवानों ने पुलिस वालों के साथ मिलकर कई ग्रामीणों को स्कूल का दरवाजा बंद कर जमकर पीटा। इस दौरान स्कूल की छत पर खड़े ग्रामीणों ने मारपीट की वीडियों बना ली। जवानों व पुलिस के द्वारा मारपीट की घटना से अधिकारी सारा दिन मना करते रहे, हालांकि इसका वीडियों सोशल मीडिया पर छाया रहा।

...जब अचानक बेहोश होकर गिरी महिला

कैराना। पब्लिक इंटर कॉलेज में वोट डालने के लिए महिलाओं की भीड़ भी खासी देखी गई। इस दौरान बूथ संख्या 282 पर वोट डालने आई एक महिला अचाकन बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ी, जिससे लोगों में खलबली मच गई और महिला को उठाकर किसी तरह होश में लाया गया। इसके बाद महिला ने अपने मत का प्रयोग किया तथा परिजनों के साथ में उसे भेज दिया गया।

Share it
Top