असम में 'नागरिकता बचाओ' को उतरी पॉपुलर फ्रंट...कैराना में गली-मोहल्लों में चस्पा किए गए पोस्टर, खुफिया विभाग अलर्ट

असम में नागरिकता बचाओ को उतरी पॉपुलर फ्रंट...कैराना में गली-मोहल्लों में चस्पा किए गए पोस्टर, खुफिया विभाग अलर्ट

कैराना। सरकार द्वारा असम में 40 लाख लोगों की नागरिकता को अवैध माने जाने के विरोध में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया भी नागरिकों के बचाव को मैदान में उतर आई है। फ्रंट की ओर से नगर के विभिन्न मोहल्लों एवं गलियों में 'नागरिकता बचाओ' के पोस्टर चस्पा किए गए हैं। पोस्टर में 'एनआरसी असम गलत इस्तेमाल बंद करो व लोगों को बांटने की चाल को रोको' पर जोर दिया गया है।

पिछले दिनों असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर 'एनआरसी' के मसौदे में 2 करोड़ 89 लाख लोगों के नाम दर्ज पाए जाने पर नागरिक करार दिया गया था, जबकि रजिस्टर में 40 लाख लोगों के नाम नहीं पाए जाने पर उन्हें अवैध माने जाने लगा। यह मुद्दा देशभर में सुर्खियों में है। इसी मामले को लेकर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने नागरिकों के बचाओ के कदम बढ़ाए गए हैं। फ्रंट की ओर से कैराना कस्बे में एक पोस्टर खूब लगाया जा रहा है। पोस्टर में लिखा गया है कि 'एनआरसी असम गलत इस्तेमाल बंद करो, नागरिकता बचाओ, लोगों को बांटने की चाल को रोको। बाकायदा पोस्टर में नीचे पॉपुलर फ्रंट का नाम व पता भी लिखा हुआ है। यह पोस्टर नगर के विभिन्न मोहल्लों, गलियों तथा मुख्य मार्ग पर दीवारों पर खूब लगाए गए हैं। दूसरी ओर असम नागरिकता से जुड़े पॉपुलर फ्रंट द्वारा पोस्टर चस्पा किये जाने से स्थानीय खुफिया विभाग भी अलर्ट हो गया है। सूत्रों की मानें तो खुफिया विभाग गोपनीय तरीके से अपनी रिपोर्ट बना रहा है, जिसे बाद में शासन को प्रस्तुत की जाएगी।

बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर लगाए थे विवादिक पोस्टर

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया विभिन्न मामलों को लेकर देशभर में सुर्खियों में रहता आया है।

बताया जाता है कि बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर फ्रंट ने नगर में विवादित पोस्टर भी चस्पा किए थे। इसके अलावा प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री से जुड़े आपत्तिजनक पर्चे बांटे जाने को लेकर भी पॉपुलर फ्रंट काफी चर्चाओं में रहा।

Share it
Share it
Share it
Top