मुजफ्फरनगर: सुशील मूंछ पर हमले के लिए रोहित सांडू को कराया गया फरार..भूपेंद्र बाफर सहित चार बदमाश गिरफ्तार


मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर पुलिस ने रोहित सांडू फरारी मामले में सनसनीखेज खुलासा करते हुए एक लाख के इनामी रहे कुख्यात भूपेंद्र बाफर सहित छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिसमें दो आरोपी मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से घायल भी हुए हैं जिन पर 25 -25 हजार रुपये का इनाम घोषित था। यह सभी आरोपी रोहित सांडू को पुलिस अभिरक्षा से भागने में सहयोगी रहे थे इन सभी का टारगेट कुख्यात सुशील मूंछ था। जिसकी हत्या की साजिश इन सब ने मिलकर रची थी, हालांकि अभी रोहित सांडू और कुछ अन्य बदमाश पुलिस पकड़ से दूर है जिसकी गिरफ्तारी के प्रयास लगातार पुलिस कर रही है।

वीओ = दरअसल बीती 2 जुलाई को रोहित सांडू नाम के एक अपराधी को मिर्जापुर पुलिस मुज़फ्फरनगर कोर्ट में पेशी पर लाई थी। कोर्ट में पेशी के बाद दिन दहाड़े कुछ कार सवार बदमाशों ने पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ फायरिग कर रोहित सांडू को पुलिस अभिरक्षा से छुड़ा कर फरार हो गए थे। पुलिस टीम पर इस हमले में एक दरोगा दुर्गविजय सिंह की गोली लगने से मौत भी हो गई थी। तभी से पुलिस रोहित सांडू की तलाश में जुटी थी रोहित सांडू तो अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं मगर रोहित की फरारी में सहयोगी रहे भूपेंद्र बाफर सहित 6 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया हैं। जिसमे से 2 आरोपी पुलिस मुठभेड़ में गोली लगने से घायल हुए हैं, जिन पर 25-25 हजार का इनाम घोषित था। रोहित सांडू को पुलिस अभिरक्षा से भागने के पीछे इन सभी की एक बड़ी प्लानिग थी जिसका पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि इनकी प्लानिंग एक बड़ी गैंगवार का हिस्सा थी जिसके तहत जेल में बंद कुख्यात अपराधी सुशील मूछ की हत्या की साजिश रची गई थी।

इस मामले में खुलासा करते हुए मुज़फ्फरनगर एसएसपी अभिषेक यादव ने बताया की रोहित सांडू के फरार होने का जो प्रकरण था उसमे आज 4 लोगो को एरेस्ट किया गया है। भूपेन्द्र बाफर जोकि पूर्व में एक लाख का इनामी भी रहा है और विक्की राठी इनके माध्यम से पूरी भूमिका बनाई गई रोहित सांडू को भगाने के लिए भूपेंद्र बाफर का इसमें मैन रोल रहा और विक्की राठी का स्पोर्ट लेते हुए इन्होने भूमिका बनाई। इनकी जो प्लानिंग रही पहले इन्होने लड़के लिए फिर इन्होने गाड़ी हथ्याइ जो इन्होने 24 तारीख में पानीपथ से लूटी थी। उस गाड़ी को लूटने के बाद घटना से पहले ये लोग जनपद में मौजूद रहे दो दिन और पूरी रैकी की। घटना के बाद इसमें जो लड़के थे शुभम ये लोग पहुंचे गाड़ी के माध्यम इ और रोहित सांडू, शेरू, अक्षित ये लोग फरार हुए। फरार होने के समय शुभम को गोली लगी और जटवाड़ा के पास जाकर इन लोगो ने गाड़ी को छोड़ा। गाड़ी छोड़ने के बाद सांडू, शेरू और दो अन्य बदमाशों और ये सब अलग हो गए। शुभम ने और अमित उर्फ़ कुक्की ने फोन करके अक्षित और रवि को बुलाया और ये चारो लोग मोटरसाइकिल पर गए। भूपेन्द्र बाफर इन्हे बेगमपुल मेरठ में मिला क्योकि शुभम को गोली लगी थी तो उसका इलाज करवाया गया एक डॉक्टर से किसी घर पर ही।

उसके उपरांत ये लोग अलग-अलग बात गए। जिसके बाद 4 अभियुक्त गिरफ्तार हुए है। जब इसमें सबसे पहले संजय को एरेस्ट किया गया तो इन सभी लोगो के नाम खुले है। नाम खुलने के बाद इसमें जो और अपराधी है उनके ऊपर 25-25 हज़ार रूपये का इनाम कराया गया। इनाम कराने के बाद इसमें भूपेन्द्र बाफर को गिरफ्तार किया गया। अक्षित और रवि को भी गिरफ्तार किया गया। इन सबके पकडे जाने के बाद जो कुकी और सुभम है और जो ने आरोपी फरार है इन सबकी जनपद स्तर पर चैकिंग कराई जा रही थी। चैकिंग के दौरान जो सम्भलहेड़ा से जटवाड़ा वाला पुल है मीरपुर थाना क्षेत्र में वहा से दो बदमाश एक मोटरसाइकिल से गुजरे तो चैकिंग के लिए रुकवाया गया तो रुके नहीं और फायर करते हुए निकल गए। उसका पीछा करते हुए टीम की उनके साथ मुठभेड़ हो गई। उसमे जो दोनों अपराधी है और 25-25 हजार के इनामी भी है अमित उर्फ़ कुक्की और शुभम इन दोनों को गोली लगी और ये घायल हुए। भूपेन्द्र बाफर का सुशिल मूछ से पुराना विवाद चल रहा है। विक्की राठी और रोहित सांडू के माध्यम से पहले भी यशपाल राठी की हत्या कराई गई है जो शुशील मूछ का साथी रहा है। अभी भी इनका उद्देश्य ये था की रोहित सांडू के माध्यम से किसी न किसी तरह सुशील मूछ पर अटेक करने का प्रयास था। इसमें अभी सांडू फरार है अमित उर्फ़ शेरू फरार है और उसके आलावा दो अज्ञात बदमाश है जिन्हे पुलिस ट्रेस कर रही है। और इनके आलावा भी जो लोग सामने आएंगे जो इस प्रकरण में उसके बारे में बताया जायेगा।

Share it
Top