बचे हुए व्यापारियों का माईग्रेशन समय से होः डीएम

बचे हुए व्यापारियों का माईग्रेशन समय से होः डीएम

मुजफ्फरनगर। आज जिला पंचायत सभागार में जिलाधिकारी जीएस प्रियदर्शी की अध्यक्षता में जीएसटी के प्रचार-प्रसार और जागरूकता अभियान के अन्तर्गत सम्बन्धित स्टॉक होल्डर्स की वर्कशॉप सहकारी समितियों के लिए जीएसटी के सम्बन्ध में जागरूकता कार्यशाला का आयोजन हुआ।
जिलाधिकारी ने कहा कि जीएसटी एक नई कर व्यवस्था है, जो सभी को समझना चाहिए। जिलाधिकारी ने कहा कि सहकारी समितियों का आधार ग्रामीण इलाकों में है, जहां उन्हें जीएसटी के ब्राण्ड एम्बेसडर के रूप में काम करना है और जीएसटी के बारे में जानकारी ग्रामीण समाज को देनी है। उन्होंने कहा कि सहकारी समितियांे को अपने सदस्यों की मीटिंग कराते हुए उनके माध्यम से जीएसटी का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये। जिलाधिकारी द्वारा यह निर्देश भी दिये गये कि कीमतों में कटौती का लाभ सबको पता होना चाहिए। जिलाधिकारी ने कहा कि देश के सबसे बडे़ कर सुधार को लेकर वाणिज्य कर विभाग जीएसटी के सफल क्रियान्वयन में जुटा है। जिलाधिकारी द्वारा प्रत्येक व्यापारिक समुदाय को जीएसटी के बारे में विस्तृत रूप से बताने के निर्देश दिए गए है। उन्होंने कहा कि जीएसटी में ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा है। वाणिज्य कर विभाग को निर्देश देते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि कि बचे हुए व्यापारियों का माइग्रेशन समय से करा लिया जाए। उन्होंने कहा कि अधिकारी बचे हुए व्यापारियों से सम्पर्क करते हुए उनका माइग्रेशन कराना सनिश्चित करें। उल्लेखनीय है कि आजादी के बाद के सबसे बडे़ कर सुधार को लेकर सरकार गम्भीरता से कार्य कर रही है। यह वर्कशॉप जिलाधिकारी की अध्यक्षता में नियमित रूप से आयोजित की जा रही है। उन्होंने कहा कि आप सभी लोग अपने आईडी एवं पासवर्ड प्राप्त कर लें। उन्होंने कहा कि यदि त्राुटिपूर्ण आईडी प्राप्त होती है, तो आप अपने सैक्टर अधिकारी से मिलकर अपनी आईडी ठीक करा लें। इसके अतिरिक्त आप अपने स्टॉक को भी बता दें। पुराने स्टॉक पर आईटीसी मिलेगी। उन्होंने कहा कि जीएसटी से व्यापारी, उद्यमी तथा आम उपभोक्ता लाभान्वित होंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि आप हमारे ब्रान्ड एम्बेसेडर हैं और भारी तादाद में लोग आपसे जुडे हैं। उन्होंने बताया कि जीएसटी की बारीकियों को आप पहले अच्छी तरह समझ लें और पिफर अपने से जुडे लोगों को समझायें। उन्होंने कहा कि यदि कहीं भ्रम की स्थिति होती है, तो वाणिज्य कर विभाग में हैल्प डेस्क खुली है। उन्होंने बताया कि खतौली में भी वाणिज्य कर कार्यालय में आप सभी की सुविधा के लिए हैल्पडेस्क चालू की गयी है। उन्होंने बताया कि जन सुविधा केन्द्र के माध्यम से भी आप अपने फार्म अपलोड करा सकते है। हर सोसायटी को अपना पंजीकरण कराना है। उन्होंने कहा कि कांवड में भी विशेष कैम्प के माध्यम से जीएसटी की जानकारी उपलब्ध करायी जायेगी। इसके पूर्व डीएस गौतम ने जीएसटी की बारीकियों के बारे में समझाया। वाणिज्य कर विभाग के डीएस गौतम के द्वारा जीएसटी के बारें में सहकारी समितियों को बताया गया तथा जीएसटी के लाभ को को सबको बताने की अपील की गई। उन्होंने बताया कि कल 11 जुलाई को लीड बैंक मैनेजर के तत्वावधान में बैंकों के लिए जिला पंचायत सभागार में 12 बजे से जीएसटी वर्कशॉप का आयोजन किया जायेगा। कार्यशाला में जीएसटी मास्टर डीएस गौतम के साथ-साथ जैसी एसएस गोयल और डीसी केएम मिश्रा, एआर कॉपरेटिव भी उपस्थित रहे।

Share it
Share it
Share it
Top