20 नवंबर को दिल्ली में होगा किसान संसद आयोजनः सिंह

20 नवंबर को दिल्ली में होगा किसान संसद आयोजनः सिंह

मुजफ्फरनगर। किसानों की कर्ज माफी और उनको लागत के अनुरूप फसल का लाभकारी मूल्य दिलाये जाने के लिए संघर्ष कर रहे किसान नेता सरदार वीएम सिंह ने कहा कि देश के किसान संगठन अब सरकार से लड़ाई के लिए एकजुट हैं। किसान संगठन ही किसानों के हितों को लेकर बिल तैयार करा रहे हैं, इसे संसद में रखा जायेगा। इसके लिए 20 नवम्बर को दिल्ली में किसान संसद का आयोजन हो रहा है।
अखिल भारतीय किसान समन्वय संघर्ष समिति की ओर से देशभर में निकाली जा रही किसान मुक्ति यात्रा का नेतृत्व कर रहे वीएम सिंह सोमवार को नगर में पहुंचे। उनका जाट कालौनी में स्वागत किया गया। बातचीत में समिति के संयोजक वीएम सिंह ने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार लगातार किसानों के साथ धोखा कर रही हैं, ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। स्वामीनाथन रिपोर्ट के अनुसार सरकार से फसलों का मूल्य हर हाल में लिया जाएगा। सरदार वीएम सिंह ने कहा कि किसानों के साथ वादे कर भुला देने वाली सरकार की मनमानी नहीं होने दी जाएगी। कर्ज मापफी से लेकर किसानों के हित में चलाई जा रहीं तमाम योजनाओं में सिपर्फ किसानों के छलने का काम किया जा रहा है। किसानों का पूरा कर्ज माफ होना चाहिए। डा. स्वामीनाथन की रिपोर्ट के अनुसार किसानों को लागत में डेढ़ गुना बढ़ाकर फसलों का मूल्य तय होना चाहिए। इसी को लेकर बीस नवंबर को दिल्ली में किसान संसद का आयोजन हो रहा है। इसमें देश के 182 किसान संगठन एकत्र होंगे। ये संगठन सरकार से किसानों की पूर्ण कर्ज मापफी की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसान संसद में सभी संगठनों के लोग किसानों के हितों को लेकर कर्ज माफी और लागत का लाभकारी मूल्य के लिए बिल प्रस्ताव तैयार करेंगे, जिसे महाराष्ट्र के कोलापुर से सांसद राजू शेट्टी के माध्यम से लोकसभा में पेश किया जायेगा। इस पर सभी राजनीतिक दलों से समर्थन मांगा जा रहा है। 20 नवम्बर को किसान संसद के मंच पर उसी राजनीतिक दल के व्यक्ति को आने की इजाजत रहेगी, जो मुक्ति यात्रा की मांगों को लेकर सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाने के साथ ही संसद में बिल का समर्थन करेगा। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के मंदसौर में दो जुलाई को किसानों पर जो अत्याचार किया गया, उसने सरकारों के खिलाफ किसान संगठनों को एकजुट होने की राह दिखाई है।

Share it
Top