11 बजे तक अपने कार्यालयों में बैठकर जन समस्याओं का निस्तारण करायेः डीएम

11 बजे तक अपने कार्यालयों में बैठकर जन समस्याओं का निस्तारण करायेः डीएम

मुजफ्फरनगर। प्रभारी जिलाधिकारी अंकित कुमार अग्रवाल ने एसडीएम व तहसीलदार को निर्देश दिये कि भूमि सम्बन्धी शिकायतों के निस्तारण के लिए पुलिस एवं राजस्व विभाग की संयुक्त टीम गठित कर मौके पर भेजी जाये और शिकायतों का गुणवत्तापूर्ण निस्तारण सुनिश्चित कराया जाये। उन्होंने कहा कि शिकायतें लम्बित न रखी जाये। उन्होंने कहा कि अधिकांश शिकायतें ग्राम समाज की भूमि, नाली, चकरोड, तालाब एवं चरागाह पर अवैध कब्जे की प्राप्त होती है। उन्होंने कहा कि ऐसी शिकायतों को गम्भीरता से लिया जाये। उन्होंने कहा कि अवैध कब्जे अथवा अतिक्रमण न होने पाये। प्रभारी जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि ग्रामीणों के शिकायत पत्रा प्राप्त होते ही तुरन्त कार्रवाई अमल में लाई जायें, ताकि तत्समय ही मौके पर ही निस्तारण किया जा सके। उन्होंने कहा कि तहसील दिवसों में इसी प्रकार की शिकायतें प्राप्त होती है, यदि सम्बन्धित विभाग समय से जनता की शिकायतें सुनकर निस्तारण करें, तो तहसील दिवस में शिकायतों का ग्रापफ कम हो जाये। इसी क्रम में प्रभारी जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सभी अधिकारी प्रातः 9 बजे से अपरान्ह 11 बजे तक अपने अपने कार्यालयों में अवश्य बैठें तथा जन समस्याओं को सुनकर मौके पर निस्तारण करायें। प्रभारी जिलाधिकारी अंकित कुमार अग्रवाल आज तहसील सदर में सम्पूर्ण समाधान दिवस पर समस्याओं/शिकायतों को सुनकर उनका निस्तारण करा रहे थे। आज सदर सम्पूर्ण समाधान दिवस में राजस्व विभाग, पुलिस विभाग विद्युत विभाग, अवैध कब्जे, खादय पूर्ति विभाग, चकबन्दी एवं अन्य विभागों से सम्बन्धित विभिन्न प्रकृति की 95 शिकायतें प्राप्त हुई। इन प्राप्त शिकायतों में 3 शिकायत का मौके पर ही निस्तारण कराया गया। प्रभारी जिलाधिकारी ने कहा कि अधिकारीगण संवेदनशील होकर शिकायतें सुनें और शिकायतकर्ता को भी मौके पर बुला लें और गुणवत्तापूर्ण निराकरण करना सुनिश्चित करें। प्रभारी जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि तहसील दिवसों में प्राप्त शिकायतों का निस्तारण मौके पर जाकर जल्द से जल्द करें। उन्होंने कहा कि शिकायतों का निस्तारण गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए। उन्होंने कहा कि निस्तारण की क्रॉस चैकिंग कराई जायेगी। उन्होंने कहा कि शिकायत के निस्तारण के पश्चात शिकायतकर्ता के हस्ताक्षर भी करा लिये जाये कि वे निस्तारण से संतुष्ट है अथवा नहीं और उनका मोबाइल नम्बर भी प्राप्त कर लें, साथ ही आईजीआरएस पोर्टल पर प्राप्त होने वाली मुख्यमंत्राी संदर्भ, जिलाधिकारी संदर्भ एवं अन्य संदर्भो के निस्तारण में तेजी लायी जाये। उन्होंने कहा कि कोई भी शिकायत लंबित न रखी जाये और उनका निस्तारण समयावधि में करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि शासन जन समस्याओं के निस्तारण के प्रति गम्भीर है और इसमें उदासीनता एवं लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। उन्होंने कहा कि अब सभी शिकायतें ऑनलाईन की जा रही है। इन शिकायतों के निस्तारण की गुणवत्ता की लखनऊ मुख्यालय पर भी नियमित रूप से मॉनिटरिंग की जाती है। उन्होंने बताया कि शिकायतकर्ता को निराकरण के सम्बन्ध में लिखित में जानकारी दें तथा शिकायत के निस्तारण/जांच के समय सम्बन्धित शिकायतकर्ता को साथ अवश्य लें, ताकि सही स्थिति की जानकारी मिले। प्रभारी जिलाधिकारी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाये कि शिकायतकर्ता को एक ही शिकायत के निस्तारण के लिए बार-बार न आना पडे। उन्होंने कहा कि प्रथम बार आने पर ही उनकी शिकायत का निस्तारण करा लिया जाये और निस्तारण की संतुष्टि सम्बन्धी उनके हस्ताक्षर भी प्राप्त कर लिये जाये। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में शिकायत को लंबित न रखा जाये। इस अवसर पर एसएसपी अनन्तदेव तिवारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, एसडीएम सदर, तहसीलदार, सहित सभी जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

Share it
Top