राष्ट्रीय लोक अदालत में हुआ 7094 मामलों का निस्तारण

राष्ट्रीय लोक अदालत में हुआ 7094 मामलों का निस्तारण

मुजफ्फरनगर। शनिवार को स्थानीय जिला जजी के प्रागंण में राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली व राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनउ के अनुसार राष्ट्रीय लोक अदालत का वृहद स्तर पर आयोजन किया गया। जिसका शुभारम्भ जनपद न्यायाधीश संजय कुमार पचौरी ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव विपिन कुमार और नोडल अधिकारी ओमवीर सिंह भी मौजूद रहे। एलडीएम पंजाब नेशनल बैंक आलोक रस्तौगी ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों के स्टाल जैसे पंजाब नेशनल बैंक, इलाहाबाद बैंक, सैन्ट्रल बैंक, स्टेट बैंक, इंडियन बैंक, कारपोरेशन बैंक, सर्व यूपी ग्रामीण बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, यूनियन बैंक, ओरियन्टल बैंक आफ कामर्स आदि के स्टाल सैन्ट्रल हॉल में लगाये गये। जहां वादकारियों ने भारी संख्या में उपस्थित होकर सुलेह सफाई के आधार पर अपने-अपने केसों का निस्तारण कराया। बैंकों की इस कार्यवाही में जहां शामली के एलडीएम व चीपफ मैनेजर मौजूद रहे, वहीं पर नाबार्ड के प्रबंधक शैलेंद्र पडियार एवं पंजाब नेशनल बैंक के वित्तीय परामर्शदाता पूर्व सचिव विजय गुप्ता ने भी पूरे समय उपस्थित रहकर वादकारियों का मार्गदर्शन किया।

लोक अदालत के पूछताछ केंद्र पर अमीन द्वितीय अनिल गौतम के निर्देशन में अन्य सहयोगियों ने ऑडियो तकनीक के माध्यम से वादकारियों का मार्गदर्शन किया और बताया कि मोटर एक्सीडेंट क्लेम के केस संबंधित न्यायालय कक्षों में, इसी प्रकार फौजदारी के केस भी न्यायालय कक्षों में और बैंकों के केस सैन्ट्रल हॉल में बैंकों के स्टालों पर सुलझाये जा रहे हैं। इसी प्रकार भारत संचार निगम लि. की ओर से भी एक शिविर लगाया गया। जहां सीओ सुरेश पाल एवं कुलदीप कुकरेजा के निर्देशन में बीएसएनएल के कर्मचारियों ने इस लोक अदालत में 1100 केस लगाये थे, जिसमें लगभग 30 केस फाइनल होने से लगभग 2 लाख रूपये के राजस्व का विभाग को लाभ हुआ। बीएसएनएल के एकाउन्ट आपिफसर व अन्य अधिकारियों ने बताया कि इस बार लोक अदालत में भारत संचार निगम ने पहली बार अपना स्टाल लगाया है और इसकी सफलता के देखते हुए आगामी लोक अदालतों में भी भारत संचार निगम अपने स्टाल लगायेगा। पंजाब नेशनल बैंक की ओर से बैंकों के वाद निपटारे कार्यक्रम का सुपर विजन किया गया और एलडीएम आलोक रस्तौगी ने सभी बैंककर्मियों का मार्गदर्शन किया।
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव विपिन कुमार (सि. जज वरिष्ठ प्रभाग) द्वारा बताया गया कि आज जनपद के 2419 मुकदमे निस्तारित कर 6,90,580 अर्थदंड वसूला गया। मोटर दुर्घटना से संबंधित 28 वादों का सुलह-समझौते के आधार पर निस्तारण कर पक्षकारों को 10103000 प्रतिकर के रूप में दिलाये गये। कुटुम्ब न्यायालय द्वारा निस्तारित 109 वादों में से पांच विवाहित जोड़ों को समझौते के आधार पर घर साथ भेजा गया। जिलाधिकारी मु.नगर के द्वारा तथा एडीएम/एसडीएम तथा विभिन्न तहसीलों के द्वारा 4382 मुकदमों का निस्तारण किया गया। इस अवसर पर नोडल अधिकारी ओमवीर सिंह अपर जिला जज द्वारा सभी का समापन के मौके पर आभार व्यक्त किया गया। इस प्रकार से राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 7094 मामलों का निस्तारण किया गया। " रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top