जिलाधिकारी ने की 50 लाख से अधिक की परियोजनाओं की समीक्षा

जिलाधिकारी ने की 50 लाख से अधिक की परियोजनाओं की समीक्षा

मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी राजीव शर्मा ने कहा कि विकास कार्य गुणवत्तापरक तथा मानकों के अनुसार समय सीमा के अन्तर्गत पूर्ण कराये जाये। उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन परियोजनाओं का सम्बन्धित विभागीय अधिकारी भौतिक निरीक्षण कर गुणवत्ता का जायजा ले और पूर्ण परियोजनाओं को समय सीमा के अन्तर्गत हैण्डऑवर करायें। उन्हांेने कहा कि जो परियोजनाएं पूर्ण हो गई हैं, उनकी सूची उपलब्ध कराई जाये। उन्हांेने कहा कि विकास कार्याे और जनकल्याणकारी योजनाआंे में गुणवत्ता एवं मानकों के साथ कोई समझौता नहीं किया जायेगा। समय सीमा के अन्तर्गत कार्य पूर्ण कराये जाने के निर्देश दिये। जिन परियोजनाओं में धनराशि की आवश्यकता है और यूसी भेजा गया है, दूसरी किश्त के लिए उनकी ओर से पुनः पत्र भेजा जाये।
जिलाधिकारी राजीव शर्मा आज यहां सभागार मंे विभिन्न कार्यदायी संस्थाआंे द्वारा संचालित 50 लाख से अधिक के निर्माण कार्यांे की भौतिक एवं वित्तीय प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जनपद में किये जा रहे विकास/निर्माण कार्यों का निरीक्षण सम्बन्धित अधिकारी स्वयं भी करें और थर्ड पार्टी निरीक्षण कराना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक में समस्त कार्यदायी संस्थाओ को निर्देश दिये कि परियोजनाओं की गुणवत्ताओं के साथ किसी प्रकार का समझौता क्षम्य नहीं होगा। उन्हांेने कहा कि सामग्री मानकों के अनुसार लगाया जाना सुनिश्चित किया जाये और समय से कार्याे को पूर्ण करना सुनिश्चित किया जाये। कार्य पूर्ण होने पर थर्ड पार्टी का निरीक्षण कराना भी सुनिश्चित किया जाये। इसके अतिरिक्त उन्होंने पाईप पेयजल परियोजनाओं सेतु निगम द्वारा मंसूरपुर में रेलवे पुल तथा राजकीय इण्टर कॉलेजों और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के निर्माण एवं भौतिक प्रगति की समीक्षा की। जिलाधिकारी ने सभी कार्यदायी संस्थाओं के प्रोजेक्ट मैनेजरांे को सख्त हिदायत दी कि सभी परियोजनाएं गुणवत्तायुक्त एवं मानकों के अनुसार पूर्ण की जाये। उन्होंने कहा कि यदि किसी परियोजना में कोई खामी परिलक्षित होती है, तो उसके लिए वे स्वयं जिम्मेदार होंगे। उन्होंने आईटीआई भवनों एवं सेमिनार हॉल जानसठ की भी समीक्षा की। उन्होंने आवास विकास संस्था के अधिकारियों को पुनः बुलाये जाने के आदेश दिये। इसके अतिरिक्त जल निगम द्वारा 4700 हाउस कनेक्शन दिये जाने तथा 6 हजार पानी के मीटर लगाये जाने के सम्बन्ध में निर्देश देते हुए कहा कि कार्य में तेजी लायी जाये।
जिलाधिकारी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बघरा में टाइप-1 एवं टाइप-2 के आवासों की समीक्षा करते हुए कार्य में तेजी लाये जाने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने मेरठ, सहारनपुर रेल सेक्सन के किमी 109/1314 पर मंसूरपुर रेलवे स्टेशन के रेल उपरिगामी सेतु तथा मुजफ्फरनगर बाईपास के सेतु की भी समीक्षा की। कार्यदायी संस्था के प्रतिनिधि ने बताया कि मंसूरपुर में एपरोच रोड बना दी गयी है तथा सर्विस रोड का कार्य चल रहा है, जिस पर जिलाधिकारी ने कार्य को शीघ्र पूर्ण किये जाने के निर्देश दिये। प्राथमिक स्वाथ्य केन्द्र नावला के कार्य को पूर्ण करने के निर्देश दिये। इसके अतिरिक्त सिसौली के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निर्माण को पूर्ण कराने के लिए निर्देश देते हुए अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी केा निर्देश दिये कि कार्य की गुणवत्ता का निरीक्षण कर लिया जाये। जिलाधिकारी द्वारा विभिन्न पेयजल परियोजनाआंे की भी समीक्षा की गयी और कार्य में तेजी के निर्देश दिये गये। इसके अतिरिक्त मुजफ्फरनगर शहर के रूडकी रोड चुंगी से जिला अस्पताल होते हुए काली नदी तक एवं आसपास के क्षेत्रा हेतु डेªनेज कार्यों की समीक्षा की। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने अमृत योजना के अन्तर्गत किये जाने वाले कार्यों की भी समीक्षा की। इसके अतिरिक्त कैराना-खतौली मार्ग के 14.9 किमी के चौडीकरण के कार्य की समीक्षा की गयी। उन्होंने मुजफ्फरनगर बाईपास मंे व्यय प्रतिशत कम होने पर कार्य में तेजी लाये जाने के निर्देश दिये।
बैठक में डीएसटीओ सहित सम्बन्धित जिला स्तरीय अधिकारी व सभी कार्यदायी संस्थाओं के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

Share it
Share it
Share it
Top