आखिरकार बागी आये बैकफुट पर...सुशीला, सरिता व प्रीति समेत सदस्य पद पर 18 ने नामांकन लिये वापस

आखिरकार बागी आये बैकफुट पर...सुशीला, सरिता व प्रीति समेत सदस्य पद पर 18 ने नामांकन लिये वापस

मुजफ्फरनगर। स्थानीय निकाय चुनाव को लेकर जारी प्रक्रिया के तीसरे चरण में शुक्रवार को नामांकन वापस लिये गये। आज का दिन भारतीय जनता पार्टी के लिए लाभकारी रहा। उसके दो बागी कार्यकर्ता आखिरकार बैकफुट पर आ ही गये। जिसके चलते दोनों ने अपने-अपने नामांकनपत्रों को वापस ले लिया। जिसके चलते भाजपा के जनपदीय शीर्ष नेतृत्व द्वारा राहत की सांस ली गयी। बागियों में से दो चेयरमैन पद के लिए थे तथा एक सदस्य पद के लिए। इसमें से एक तो चेयरमैन पद को लेकर मान गया था, लेकिन दूसरा कार्यकर्ता व एक सदस्य पद का प्रत्याशी नहीं माना था। अंत में दोनों के द्वारा भी बैक टू पैवेलियन कर दिया गया। वहीं दूसरी ओर सभी 50 वार्डों पर नामांकित प्रत्याशियों मे से 18 के द्वारा अपना नामांकन पत्र वापस लिया गया। इसमें अधिकांश वह थे, जो कि डमी प्रत्याशी थे।
कई दिनों से भारतीय जनता पार्टी के अंदर जारी बागी का आखिरकार शुक्रवार को समापन हो गया। जनपद के शीर्ष नेतृत्व की मेहनत आखिरकार रंग लायी। जिसके चलते बागी मान गये और उन्होंने अपने-अपने नामांकन पत्रों को वापस ले लिया। गौरतलब है कि चेयरमैन पद को लेकर भारतीय जनता पार्टी में काफी लोगों के द्वारा अपना-अपना आवेदन किया गया था। जिसके बाद पार्टी हाईकमान के द्वारा अरविंदराज शर्मा की पत्नी सुधाराज शर्मा को मौका दिया गया । जिसके बाद कांग्रेस ही की भांति भाजपा में भी बवाल उठ खड़ा हो गया था बागियों के द्वारा। जिसके चलते बागियों के द्वारा शिवचौक पर अच्छा खासा हंगामा भी किया गया था। बागियों के द्वारा सांसद डा. संजीव कुमार बालियान, नगर विधायक कपिल देव अग्रवाल व जिलाध्यक्ष रूपेंद्र सैनी का पुतला फूंका गया था। बागियों में शामिल थे पूर्व विधायक सुशीला अग्रवाल, सरिता अरोरा शर्मा व प्रीति चौधरी आदि । जिन्होंने अपना-अपना नामांकन भी कर दिया था। उसके बाद बागियों को मनाने का दौर शुरू हुआ जिसमें भाजपा के शीर्ष नेताओ को कामयाबी मिली। जिसके बाद सुशीला अग्रवाल, सरिता अरोरा व प्रीति चौधरी के द्वारा अपना नामांकन वापस लेने की बात कही गयी। सुशीला अग्रवाल तो अगले दिन नामांकन वापस लेने भी गयी, लेकिन रिटर्निंग अधिकारी के द्वारा यह बताया गया कि नामांकन तय तिथि पर ही वापस होगा। वहां पर भी सरिता अरोरा व प्रीति चौधरी के द्वारा जिलाध्यक्ष के सामने अच्छा खासा नाटक किया गया। दोनों ने कहा कि कल का निर्णय पार्टी का था, हमारा नहीं। हर हाल में चुनाव लड़ा जाएगा। लेकिन दोनों ही 24 घंटे बाद शुक्रवार को बैकफुट पर आ गयीं और अपना-अपना नामांकन पत्र वापस ले लिया। पार्टी सूत्रों के अनुसार दोनों के द्वारा नामांकन पत्र वापस लेने को लेकर चर्चा है कि फीलगुड की पिच पर आउट होते हुए दोनों बैक टू पैवेलियन हुई हैं।
भाजपा के दो बागियों सुशीला अग्रवाल व सरिता अरोरा शर्मा के नामांकन वापस लेने से अब चुनावी समर में चेयरमैन पद को लेकर मुकाबला सपा की मिथलेश पाल, कांग्रेस की अंजू अग्रवाल, भाजपा की सुधाराज शर्मा, बसपा की मुदस्सिरजहां व रालोद की शबनम परवीन के मध्य होगा जो कि बड़ा ही रोचक होगा। वहीं दूसरी ओर यदि बात की जाए सदस्य पद की, तो शुक्रवार को 18 लोगों के द्वारा अपने-अपने नामांकन पत्र वापस लिये गये। इसमें अधिकतर डमी प्रत्याशी शामिल हैं। इसमें वार्ड तीन उत्तरी सिविल लाइन से संदीप, वार्ड सात आर्यपुरी से भाजपा के ही बागी शोभित गुप्ता, वार्ड दस सिविल लाइन प्रथम से प्रीति चौधरी व प्रिया। वार्ड 12 सिविल लाइन द्वितीय से प्रदीप कुमार बंसल, वार्ड 20 सिविल लाइन तृतीय से विनय मलिक, वार्ड 27 गउशाला से सविता, वार्ड 29 गांधी कालोनी द्वितीय से हरीश चड्ढा व अखिल तागरा, वार्ड 30 महमूदनगर से सोनू व शर्मिष्ठा, वार्ड 32 दक्षिणी भोपा रोड संजय मार्ग से रजनी गोयल, वार्ड 36 लद्दावाला प्रथम से नईम चौधरी, वार्ड 37 किदवईनगर से तौकिर हैदर, वार्ड 42 मल्हूपुरा प्रथम से शादाब व मौ. फैसल, वार्ड 43 बंजारान से नंदकिशोर मित्तल व वार्ड 49 खालापार तृतीय मौहम्मद आमिर शामिल हैं।

Share it
Top