टिकट निरीक्षकों ने वसूला 13,19,500 का जुर्माना

टिकट निरीक्षकों ने वसूला 13,19,500 का जुर्माना

मुजफ्फरनगर। पिछले दो माह अक्टूबर व नवंबर माह रेलवे विभाग के लिए अत्यंत ही लाभकारी साबित हुए। इन दोनों माह में टिकट निरीक्षकों की टीम के द्वारा 13 लाख 19 हजार पांच सौ रूपये का जुर्माना बिना टिकट यात्रा करने वालों से वसूला गया। टीम के द्वारा दो माह में कुल 2631 केस पकड़े गये। जिसमें अक्टूबर माह में 1649 व नवंबर माह में 982 केस शामिल हैं।
अक्टूबर व नवंबर माह बिना टिकट यात्रा करने वालों के लिए भारी रहे। मुजफ्रपफरनगर रेलवे स्टेशन पर तैनात टिकट निरीक्षकों की टीम के द्वारा बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्रियों से दोनों माह में कुल 13,19,500 का जुर्माना 2631 केसों में वसूला गया। जिसमें अक्टूबर माह में 1649 केसों में कुल आठ लाख 51 हजार 775 रूपये तथा नवंबर माह में 982 केसों में चार लाख 67 हजार 725 रूपये का जुर्माना वसूला गया। सितंबर में चार लाख तितालीस हजार सात सौ पिचानवे रूपये का जुर्माना वसूला गया। यह जुर्माना कुल 936 लोगों से वसूला गया। माह अगस्त में मुजफ्फरनगर रेलवे स्टेशन पर उपस्थित टिकट निरीक्षकों के द्वारा बिना टिकट यात्रा करने वालों लोगों से एक लाख सोलह हजार रूपये का जुर्माना वसूला गया था। वहीं दूसरी ओर माह जुलाई में कई केसों में एक लाख बारह हजार से अधिक का जुर्माना वसूला गया था। यह जुर्माना और अध्कि हो सकता था, लेकिन दो सप्ताह का ट्रैक ब्लॉक जुर्माना कम होने की वजह बना। जिसके चलते रेलवे के राजस्व में कमी आयी।
इसके साथ ही माह अप्रैल में मुजफ्फरनगर के रेलवे स्टेशन पर विद्यमान टिकट निरीक्षकों की टीम द्वारा 88 हजार से अधिक का जुर्माना वसूला गया था। इसके विपरीत मार्च माह में मुजफ्फरनगर स्टेशन पर विद्यमान टिकट निरीक्षकों की टीम ने 59,890 रूपये का जुर्माना वसूला था। माह पफरवरी मंे बिना टिकट यात्रा करने वाले 341 केस पकड़े थे। जनवरी माह में इसके मुकाबले 260 केस पकड़े गये थे। माह पफरवरी में जनवरी के मुकाबले 23,475 रूपये का जुर्माना अधिक वसूला गया था। इसके विपरीत मार्च में यह आंकड़ा पफरवरी के मुकाबले 45,410 रूपये कम रहा था। मुख्य टिकट निरीक्षक रविंद्र कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि इस बार अक्टूबर व नवंबर माह में उनके व उनकी टीम के द्वारा बिना टिकट यात्रा करने के 2631 केस बिना टिकट यात्रा करने वालों के पकड़े गये। जिनसे 13,19,500 का राजस्व वसूला गया जुर्माने के रूप में।

Share it
Top