डायल 1०० पुलिस बनी वरदान से अभिशाप

डायल 1०० पुलिस बनी वरदान से अभिशाप

कैराना। नागरिकों की सुरक्षा हेतू सरकार द्वारा संचालित की गयी डायल 1०० पुलिस क्षेत्र में वरदान की जगह अभिशाप बनकर रह गयी है। प्रदेश की पूर्व सपा सरकार द्वारा प्रदेश के लोगों की सुरक्षा हेतू थाना स्तर पर डायल 1०० पुलिस वाहनों की सौगात दी गयी थी,जिसकी प्रदेश की जनता ने भारी प्रशंसा की थी। वर्तमान भाजपा सरकार ने भी डायल 1०० पुलिस वाहनों का संचालन ज्यों का त्यों जारी रखा हुआ है। वर्तमान में कैराना कोतवाली में दी गयी डायल 1०० पुलिस के चार वाहन अवैध उगाही के स्रोत बनकर रह गये हैं। कोतवाली कैराना क्षेत्र में संचालित हो रहे चोरों डायल 1०० पुिलस वाहनों पर तैनात पुलिस कर्मी दिन रात अवेध उगाही पर लगे हुए हैं। वहीं गत दिवस उस समय एक सडक हादसा देखने को मिला जब रामडा गांव में डायल 1०० पुलिस संख्या 3०11 की चपेट में आये दो वृद्ध सडक पर पडे हुए घायल अवस्था में मदद की गुहार लगाते रहे लेकिन दुर्घटना को अंजाम देने वाली डायल 1०० पुलिस का वाहन मौके से भागने में कामयाब रहे बाद में राहगीरा व ग्रामीणों के सहयोग से दोनों साईकिल सवार वृद्धों को उपचार हेतू निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया जहां उनकी हालत गंभीर बतायी गयी है। ग्रामीणों का आरोप है कि डायल 1०० पुलिस वाहन 3०11 पर तैनात पुलिस कर्मी ग्रामीणों के हस्तक्षेप पर गंभीर घायल दोनों वृद्धों जाहिद निवासी नगला राई व लियाकत निवासी गंाव पंजीठ के उपचार कराने का झूठा आश्वासन देकर अपने उच्चाधिकारियों का मुंह बंद कर दिया,लेकिन आजतक इन पुलिस कर्मियों ने इन दोनों वृद्धों की कोई खेरखबर नही ली, जो आज मौत ओर जिंदगी से जूझ रहे है।

Share it
Top