रेप का मुकदमा दर्ज कराने तथाकथित पीडिता पर ही लगाये गम्भीर आरोप

रेप का मुकदमा दर्ज कराने तथाकथित पीडिता पर ही लगाये गम्भीर आरोप

बुढ़ाना। शीतल पेय में नशा देकर जंगल में विवाहिता के साथ गैंगरेप के कथित मामले में चार दर्जन से अधिक लोगों ने जिला मुख्यालय पहुंचकर जिलाधिकारी राजीव कुमार शर्मा को दी गई लिखित शिकायत में कथित पीड़िता पर आरोप जडे है। इनका कहना था कि यह महिला पहले भी कई लोगों को फंसाकर उनसे अवैध वसूली कर चुकी हैं। इस मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के आदेश पर बुढाना पुलिस ने कार्यवाही शुरू की थी। गत दिवस बुढ़ाना कोतवाली क्षेत्र के चंधेडी रोड निवासी साजिया परवीन उर्फ गुडिया पत्नी साबिर ने मौहल्ले के ही आबिद, महताब व साबिर पर कोल्ड ड्रिंक में नशा पिलाकर सामूहिक बलात्कार का आरोप लगाया था। साजिया का कहना था कि वह महिलाओं के कपड़ों की सिलाई कर अपने परिवार का पालन पोषण करती है। उसके पति से उसके पड़ौसी आबिद पुत्र खुर्शीद ने दोस्ती की, तब इस दौरान वह घर आने-जाने लगा। एक दिन उसका पति किसी काम के सिलसिले से बाहर गया हुआ था। वहीं मौका पाकर आबिद उसके घर पर आया और कहने लगा कि मैं तुम्हे सिलाई का सैंटर खुलवा दूंगा, तब वह उसके झांसे में आ गई, तब आबिद उसको अपने साथ ले गया, जहां पहले से ही मौजूद आबिद का बहनोई महताब पुत्रा अलीशेर, आबिद का भाई साबिर व एक अन्य युवक मौजूद बताए गए। आरोप है कि आबिद के जाने के बाद आरोपियों ने उसको कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ पिलाकर बेहोश कर दिया और उसके साथ गैंगरेप किया था। जब वह रिपोर्ट कराने बुढाना कोतवाली के लिए रवाना हुई, तो उसकी भनक आबिद को लग गई, तो उसने कैनरा बैंक वाली गली में उसको पकड़ लिया और रिपोर्ट दर्ज न करने का आग्रह करते हुए पैर पकड़कर रोने लगा और वायदा किया कि वह तो परीक्षा दे रहा है। परीक्षा समाप्त होते ही वह उससे शादी कर लेगा। तब वह आबिद के झांसे में आ गई। महिला की इस कहानी को मौहल्ले के लोगों ने फर्जी बताया। मौहल्ले के हारून पुत्र रियाजूदीन, यामीन, अमीर हसन, लाल मौहम्मद, अली हसन, नफीस, मोमीन, शब्बीरी, साईस्ता, शमीना, सलमा, मुनाजरा, जरीना, रिहाना आदि का कहना था कि कथित पीड़िता साजिया परवीन ने 18 साल पहले अपनी मर्जी से शादी कर ली थी, तभी से वह कई लोगों के खिलाफ मुकदमे भी दर्ज करा चुकी है। साबिर पुत्र खुर्शीद पर 24 अप्रैल को हुए विवाद के बाद उसे धमकी दी गई थी। साबिर ने उसकी बात नहीं मानी, तो यह मुकदमा दर्ज करा दिया गया। मौहल्ले के लोगों ने इस पूरे मामले की जांच किसी निष्पक्ष जांच एजेंसी से कराये जाने की मांग की है, ताकि कोई बेकसूर न पफंस पाये।

Share it
Top