झूठी रिपोर्ट मिलने पर कडी कार्यवाही के लिए रहे तैयारः डीएम

झूठी रिपोर्ट मिलने पर कडी कार्यवाही के लिए रहे तैयारः डीएम

मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी राजीव शर्मा ने आज जिला भूमि एवं जल संरक्षण समिति की बैठक में अधिकारियों को कडे निर्देश देते हुए कहा कि विकास कार्यो में किसी भी प्रकार की कोई गडबडी नहीं मिलनी चाहिए। उन्होने समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में भूमि संरक्षण के अन्तर्गत किये गये कार्यो का सत्यापन कराया जाये। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी सत्यापन कर रिपोर्ट देंगे, उनकी क्रॉस चैकिंग स्वयं करेंगे। अगर सत्यापन रिपोर्ट में कोई गडबडी मिली, तो सम्बन्धित के विरूद्ध कडी कार्यवाही की जायेगी।
जिलाधिकारी राजीव शर्मा ने आज कलक्ट्रेट सभागार में जिला भूमि एवं जल संरक्षण समिति की बैठक में कराये गये कार्यो एवं वित्तीय वर्ष 2018-19 में माह मई तक कराये गये कार्यो के सम्बन्ध में समीक्षा कर रहे थे। भूमि संरक्षण अधिकारी तुलसीराम ने समीक्षा बैठक में बताया कि भूमि संरक्षण कार्यो में मनरेगा, पं दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्ध (मनरेगा) एवं पं. दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्ध योजनाओं के अन्तर्गत विभिन्न परियोजनाओं में भूमि एवं जल संरक्षण से सम्बन्धित, आरकेवीवाई, जल निकास, नालों की सफाई/खुदाई, खेतों का समतलीकरण, खेतों की मेढ बनाने का कार्य, तालाब खुदाई, पेरीफेरेल बांध, तालाब जीर्णोद्धार, मृदा बांध निर्माण आदि कार्यो को कराया गया है। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि जिला भूमि एवं जल संरक्षण समिति के अन्तर्गत शासन द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं जिनमें मनरेगा, पं. दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्ध (मनरेगा) एवं पं. दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्ध योजनाओं के अन्तर्गत विभिन्न परियोजनाओं में भूमि एवं जल संरक्षण से सम्बन्धित विभिन्न विकास कार्यो का सत्यापन कराया जाये। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिेये कि कराये गये कार्यों का भौतिक सत्यापन कराया जाये और जिन अधिकारियों द्वारा सत्यापन हेतु भेजा जाये व सही रिपोर्ट प्रेषित करें। उन्होंने कहा कि उनकी रिपोर्ट पर मेरे द्वारा निरीक्षण किया जायेगा, अगर निरीक्षण के दौरान रिपोर्ट में गडबड हुई, तो सम्बन्धित सत्यापनकर्ता अधिकारी के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।
डीएम ने निर्देश दिये कि सोलानी नदी में गिरने वालें नालों की सफाई कराई जाये और उन पर कूडा-करकट रोकने के लिए जाल आदि का प्रबन्ध कराया जाये। जिलाधिकारी ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि ऐसी कार्ययोजना बनाये नहर, राजवाहा आदि की कनेक्टिविटी पास के गांव के तालाब तक हो, ताकि उसमें जल संरक्षण कर वॉटर लेवल ऊंचा किया जा सके। उन्होंने निर्देश दिये कि मेढबन्दी में बोरों में मिटटी भरकर रखी जाये। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अर्चना वर्मा, उप निदेशक कृषि, नरेन्द्र कुमार, सहित सम्बन्धित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

Share it
Share it
Share it
Top