तीन तलाक कहकर विवाहिता को मायके के नजदीक फेंक गया पति

तीन तलाक कहकर विवाहिता को मायके के नजदीक फेंक गया पति

पुरकाजी। विवाहिता को उसके पति ने तलाक तलाक तलाक कहकर मारपीट कर मायके से तीन किमी दूर बिजलीघर के निकट फेंककर चले गए। पीड़िता विवाहिता के मायके के लोग रात्रि में थाने पहुंचे और पीड़िता की डाक्टरी कराई। हद तब हो गई जब बुधवार की प्रातः पीड़िता पक्ष के लोग थाने कार्यवाही को पहुंचे और पुलिस से कार्यवाही की मांग करने लगे। आरोप है कि थाने के एसएसआई ने पीड़िता पक्ष के साथ दुर्व्यव्यवहार किया, जिस कारण पीड़िता पक्ष में पुलिस के प्रति रोष व्याप्त है।
पुरकाजी के भोजाहेड़ी गांव निवासी शहराना की शादी 14 वर्ष पूर्व मुजफ्फरनगर के सरवट हाजीपुरा निवासी आस मौहम्मद पुत्र नूरहसन के साथ हुई थी। आरोप है कि शादी के बाद से ही पति आस मौहम्मद तंग व प्रताड़ित करता चला आ रहा है, लेकिन विवाहिता अपने परिवार व समाज की खातिर पति के अत्याचारों को सहन करती चली आ रही थी। मंगलवार की देर सायं पीड़िता का पति आस मौहम्मद अपने साथ पिता व अन्य को लाया और पीडिता के साथ मारपीट की। जब पीड़िता ने विरोध किया, तो गले में रस्सी डालकर जान से मारने का प्रयास किया। उसके बाद उसे तीन बार तलाक तलाक कहकर कहा कि अब तू आजाद है अपने घर पर जा और बिजलीघर के निकट चलती गाडी से धक्का देकर चले गए। घायल अवस्था मंें पीडिता रास्ते में पड़ी रही। किसी राहगीर ने विवाहिता के मायके के लोगों को सूचना दी। उसके बाद पीड़िता के मायके से उसके भाई व कई दर्जन लोग मौके पर पहुंचे और विवाहिता को लेकर थाने पहुंचे और कार्यवाही की गुहार लगाई। पुलिस ने रात में घायल अवस्था में पीडिता का मैडिकल कराया। बुधवार की प्रातः पीडिता का भाई अयूब, भाकियू के पूर्व जिला सचिव धीरज त्यागी समेत दर्जनों लोग थाने पहुंचे और थाना प्रभारी की गैरमौजूदगी में एसएसआई से कार्यवाही की मांग की। आरोप है कि एसएसआई ने पीडिता पक्ष की बात सुनकर उनको संतुष्ट करने के बजाए उल्टे उनसे दुर्व्यवहार किया, जिससे पीड़िता पक्ष में पुलिस के प्रति रोष व्याप्त है, जहां एक ओर शासन से आदेश है कि पुलिस पीड़ित से नम्रता से बात करेंगी। वहीं शासन के आदेश की ये एसएसआई साहब खुलेआम धज्जियां उडा रहे है। पीड़ित पक्ष ने कार्यवाही की मांग की है। पीड़ित पक्ष ने मामले की शिकायत आला अधिकारियों से की है।

Share it
Top