कर्ज में डूबे नेत्रहीन को न्याय के बदले थाने में मिली दुत्कार, जेल भेजने की दी धमकी

कर्ज में डूबे नेत्रहीन को न्याय के बदले थाने में मिली दुत्कार, जेल भेजने की दी धमकी

शाहपुर। कर्ज में डूबे नेत्रहीन की पांच बीघा जमीन को दबंगों द्वारा इकरारनामा के नाम पर बहला-फुसलाकर बैनामा करने के बाद पीड़ित नेत्रहीन को न्याय के लिए एसएसपी के कहने पर थाने में पहंुचने पर दुत्कार मिलने के बाद थाने के एक दरोगा ने जेल भेजने की धमकी दी।शाहपुर क्षेत्र के गांव पलड़ी निवासी नेत्रहीन इंद्र सैनी पर बैंक सहित अन्य तरह का लगभग 9 लाख का कर्ज था, जिसे चुकाने के लिए निकट के गांव बसीकलां निवासी फरीतुल्ला पुत्र इनामतुल्ला से कर्ज चुकाने के लिए अपनी पांच बीघा जमीन रखकर 9 लाख रुपये कर्ज पर लिए थे। आरोप है कि जमीन का एग्रीमेंट कराने के नाम पर फरितुल्ला ने नेत्रहीन व उसके दो छोटे लड़कों को बहला-फुसला कर उक्त पांच बीघा जमीन का बैनामा करा लिया। नेत्रहीन इंद्र सैनी के बड़े पुत्र अनुज को जब इसकी जानकारी मिली, तो उसने बैनामे को चुनौती देते हुए बुढाना तहसील वाद दायर करने के साथ थाना शाहपुर में फरितुल्ला के विरुद्ध थाने में तहरीर देकर कार्यवाही की मांग की। पुलिस ने एक सप्ताह तक कोई कार्यवाही नही की तो नेत्रहीन अपने अर्धविक्षिप्त भाई व वृद्ध माँ सहित अपने बच्चों को लेकर एसएसपी कार्यालय पहंुचा, तो एसएसपी के न मिलने पर उसने एसपी देहात को अपनी पीड़ा सुनाई। एसपी देहात ने शाहपुर थाना प्रभारी को कार्यवाही करने को कहकर पीड़ित परिवार को थाने भेज दिया। शाहपुर थाने पहंुचने पर वहां मौजूद हल्का इंचार्ज दरोगा ने उन्हें थाने से दुत्कार कर भगा दिया। पीड़ित परिवार ने एसएसपी को फोन कर दरोगा की हरकत बताई, तो एसएसपी ने थाना प्रभारी से मिलने को कहा नेत्रहीन पीड़ित परिवार कस्बा चौकी पर बैठे थाना प्रभारी कुशलपाल के पास पहंुचे जहां थाना प्रभारी ने उक्त दरोगा को बुलवाया दरोगा ने पीड़ित नेत्रहीन परिवार को कस्बा चौकी पर थाना प्रभारी के सामने की धमकी देते हुए जेल भेजने की धमकी दी, जिससे सहमा परिवार चौकी से भी बिना न्याय मिले वापस लौट गया। नेत्रहीन इंद्र सैनी के पुत्र अनुज ने बताया कि न्याय के लिए पुनः एसएसपी से मुलाकात करने के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रधानमंत्री व राष्ट्रपति को भी पत्र भेज कर न्याय की मांग करेंगे।

Share it
Share it
Share it
Top