संस्थागत प्रसवों को बढायें अन्यथा होगी कार्यवाहीः डीएम

संस्थागत प्रसवों को बढायें अन्यथा होगी कार्यवाहीः डीएम

मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी जीएस प्रियदर्शी ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित स्वास्थ्य विभाग की आवश्यक बैठक में निर्देश दिये कि सभी एसीएमओ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों व उप केन्द्रों की गहनता से निरीक्षण कर अपनी रिपोर्ट भेजें। जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि एसीएमओ केवल खानापूर्ति के लिए निरीक्षण करते हैं, यही कारण है कि बैठक में भी एसीएमओ निरीक्षण रिपोर्ट के सम्बन्ध में सन्तोषजनक उत्तर नहीं दे पाते हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की निरन्तर समीक्षा करेंगे। जिलाधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिये कि स्वयं भी स्वास्थ्य केन्द्रों का औचक निरीक्षण करें तथा स्टापफ को सतर्क करें। उन्हांेने कहा कि शीघ्र ही सीएचसी, पीएचसी व सब-केन्द्रों का औचक निरीक्षण प्रारम्भ करेंगे, यदि किसी प्रकार की त्राुटि या लापरवाही उजागर होती है, तो सम्बन्धित की जिम्मेदारी निर्धारित कर मौके पर ही कार्रवाई करेंगे। उन्हांेने कहा कि सभी सीएचसी/पीएचसी पर बिजली, पर्दे, साफ-सफाई आदि की व्यवस्था पूर्ण होनी चाहिए। पुरूष नसबन्दी में इजापफा करंे। इसके साथ ही संस्थागत प्रसवों को बढ़ावा दिया जाये तथा आशाओं का भुगतान भी समय पर किया जाना सुनिश्चत करंे। उन्होंने कहा कि बच्चों के पंजीकरण में सुधार लाया जाये और स्वास्थ्य विभाग की येाजनाओं का प्रचार-प्रसार किया जाये।
जिलाधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिये अन्धता निवारण कार्यक्रम के अन्तर्गत सभी आशा वर्कस व एएनएम द्वारा प्रचार प्रसार किया जाये कि जिला चिकित्सालय में चश्मा भी निःशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने सीएमओ को निर्देश दिये कि सर्दी के मौसम में मोतियाबिन्द के आंखों के आप्रेशन के लिए अभी से रणनीति तैयार कर लें, ताकि मोतियाबिन्द के आप्रेशन शुरू कराये जा सकें। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी पीएस मिश्रा, सहित अन्य चिकित्सक मौजूद थे।

Share it
Top