सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक ने अपनाया कड़ा रुख...नियमित कर्मचारियों के लिए लागू किया नो वर्क नो पे का फार्मूला

सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक ने अपनाया कड़ा रुख...नियमित कर्मचारियों के लिए लागू किया नो वर्क नो पे का फार्मूला

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की मुजफ्फरनगर की रोडवेज डिपो के सहायक क्षे. प्रबंधक ने लापरवाह कर्मचारियों (नियमित/संविदा) पर नकेल कसते हुए कड़ा रुख अख्तियार कर लिया। जिसके चलते उन्होंने जो कार्यवाही रूपी फार्मूला लागू किया है, उसने लापरवाह कर्मचारियांे की रातों की नींद व दिन का चैन उड़ा दिया है। उन्होंने नियमित कर्मचारियों के लिए नो वर्क नो पे तथा संविदा कर्मचारियों के अनुपस्थित होने के दिन के हिसाब से प्रतिदिन 500 रूपये की कटौती के आदेश जारी कर दिये हैं।
मुजफ्फरनगर रोडवेज डिपो पर कुछ नियमित व संविदा कर्मचारी बेहद ही लापरवाही से अपने कार्य को अंजाम दे रहे थे। जिसके चलते अन्य भी प्रभावित हो रहे थे। इस प्रकार के नियमित व संविदा कर्मचारियों पर लगाम लगाने को लेकर डिपो के सहायक क्षेत्राीय प्रबंधक ब्रह्मप्रकाश अग्रवाल के द्वारा कड़ी कार्यवाही करते हुए सर्वप्रथम तो लापरवाह नियमित व संविदा चालक/परिचालकांे की सूची तैयार करवायी, साथ ही नियमित कर्मचारियों (चालक/परिचालक) के लिए एक नियम नो वर्क, नो पे लागू कर दिया। इसके साथ ही संविदा के चालक/परिचालकों को अब अपनी ड्यूटी से अनुपस्थित रहना बड़ा भारी होगा। एआरएम ने यह आदेश जारी कर दिये कि जो भी संविदा कर्मचारी अनुपस्थित रहेगा, उसके वेतन से प्रतिदिन के हिसाब से 500 रूपये की कटौती की जाएगी। डिपो के सहायक क्षे. प्रबंधक की ओर से जारी आदेश के चलते अपने कार्य के प्रति लापरवाह रहने वाले कर्मचारियों में हड़कंप मच गया है। उनके द्वारा जारी आदेश के अनुपालन में डिपो के वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर की ओर से कुछ अनुपस्थित नियमित/संविदा के चालक/परिचालकांे की सूची एआरएम को सौंपी गयी, जो कि इस प्रकार से है चालकः विनोद कुमार तृतीय, अमजद अली, दीपक कुमार द्वितीय, हरेंद्र आठ, राजकुमार 13, पफुरकान अली, हरेंद्र पांच, विकास त्यागी, बीर सिंह, मो. इकबाल, अमरीश त्यागी, कंवरपाल पांच, नरेंद्र पांच, दीपक चतुर्थ व नीरज चतुर्थ। परिचालकः ब्रजमोहन, ओमकार प्रथम, राजकुमार पंाच, चरण सिंह, सुरेश द्वितीय, अरविंद 13, विरेंद्र छह, नपफीस अहमद, राजीव छह, महक सिंह, रामधन, कासिम, हीरामल, दिनेश शर्मा, श्रवण द्वितीय, जगत प्रकाश व अनुज कुमार तृतीय शामिल हैं। वहीं इस बारे में सहायक क्षे. प्रबंधक बीपी अग्रवाल का कहना था कि लापरवाह कर्मचारियों पर लगाम लगाने को लेकर इस प्रकार के कड़े नियम लागू करना आवश्यक हो गया था। कार्य के प्रति लापरवाही किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं होगी।

Share it
Top