गैंगरेप मामले का पटाक्षेप, फर्जी निकला मामला...मुकदमे में फैसले का दबाव बनाने के लिये महिला को मोहरा बनाकर रचा गया था ड्रामा

गैंगरेप मामले का पटाक्षेप, फर्जी निकला मामला...मुकदमे में फैसले का दबाव बनाने के लिये महिला को मोहरा बनाकर रचा गया था ड्रामा

मीरापुर। मीरापुर के हाई-प्रोफाईल गैंगरेप मामले में नया मोड आ गया, पुलिस ने मामले का पटाक्षेप कर दिया। पुलिस जांच में मामला फर्जी पाया गया, पुलिस के अनुसार पूर्व में ककरौली थाने में लिखे गये एक गैंगरेप के मुकदमे में फैंसले का दबाव बनाने के लिये एक व्यक्ति ने गैंगरेप का ड्रामा रचा तथा पीडित महिला को 15 हजार रूपये का लालच देकर गैंगरेप होने के नाटक कराया गया था। बुधवार को ककरौली क्षेत्र के ग्राम कडी निजामपुर निवासी एक महिला ने ग्राम चोरावाला निवासी दो सगे भाईयों अफसर व मतलूब पर गैंगरेप का आरोप लगाते हुए मीरापुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। पीडिता पुलिस को एक खेत में बदहवास हालत में मिली थी। मामला अलग-अलग सम्प्रदाय से जुडा होने के कारण हाई प्रोफाईल हो गया था तथा भाजपा के पूर्व विधायक व पूर्व ब्लॉक प्रमुख ने थाने पहंुचकर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की थी। जिस पर सीओ जानसठ एस.के.एस. प्रताप सिंह ने मीरापुर व रामराज पुलिस के साथ आरोपियों की तलाश में ताबडतोड दबिश दी तो मामला पफर्जी पाया गया। पुलिस के अनुसार आरोपी अफसर व मतलूब की गांव के ही गुलशेर के साथ रंजिश चल रही है, कुछ दिन पूर्व अपफसर ने अपनी बहन के साथ गैंगरेप करने का गुलशेर व उसके भतीजे मोहनीश पर आरोप लगाते हुए उनके विरूद्ध ककरौली थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। उसी मुकदमे में पफैंसला करने का दबाव बनाने के लिये गुलशेर ने अपने पास काम करने वाले गांव के ही युवक दीपक पुत्र केहर सिंह के साथ मिलकर कडी निजामपुर की एक महिला नेत्राी के माध्यम से महिला नेत्राी के गांव की एक महिला को अपफसर व मतलूब पर गैंगरेप का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराने के लिये तैयार किया था। जिसके लिये पीडिता को 15 हजार रूपये का लालच भी दिया गया था। पुलिस ने गुरूवार को मामले का पटाक्षेप कराते हुए आरोप लगाने वाली महिला को मीडिया से रूबरू कराया। जिसमें महिला ने मामले का खुलासा करते हुए घटना को झूठा बताया। पुलिस ने महिला नेत्राी समेत साजिश रचने वाले गुलशेर व दीपक को थाने बैठाया है। मीरापुर इन्सपैक्टर अरविन्द कुमार ने बताया कि गैंगरेप की झूठी सूचना देकर मुकदमा दर्ज कराने वाले सभी लोगों के विरूद्ध 182 की रिपोर्ट भेजकर मुकदमा दर्ज किया जायेगा।

Share it
Top