नगर में चारों ओर जाम ही जाम...कई स्थानों पर लोग आपस में उलझे, हर चौराहे व गली पर नजर आया वाहनों का सैलाब

मुजफ्फरनगर। नगर सोमवार को गुडगांव हाईवे के रूप में नजर आया। जिधर भी नजर दौडाई गयी, उधर ही जाम ही जाम नजर आया। शायद ही नगर की कोई ऐसी गली नजर आयी होगी, जो कि जाम से मुक्त रही हो। जाम के चलते लोगों को परेशानियांे का सामना करना पड़ा। कई स्थानों पर तो लोग आपस में उलझते हुए भी नजर आये। जाम को खुलवाने में कहीं-कहीं तो थानाध्यक्ष भी नजर आये। जाम की स्थिति प्रातः से प्रारंभ होकर शाम तक जारी रही। जाम में सबसे अधिक वह लोग प्रभावित हुए, जो कि बाहर से आये थे तथा जिन्हंे रास्तों का ज्ञान नहीं था। जो स्थानीय निवासी थे, वह तो सहायक गलियों का सहारा लेकर निकलते गये।
सोमवार का दिन नगर सहित बाहर से शहर में आने वाले लोगों को लिए परेशानी का सबब बनकर आया। नगर का शायद ही कोई ऐसा चौराहा हो, जो कि जाम से मुक्त रहा होगा। हर चौराहे पर जाम ही जाम नजर आया। जाम का यह सिलसिला प्रातः नौ बजे से प्रारंभ होकर शाम को छह बजे के आसपास तक जारी रहा। भोपा ओवरब्रिज, थाना सिविल लाइन के सामने, बचन सिंह चौराहा, होली एंजिल्स स्कूल के सामने, टाउनहाल, झांसी की रानी के सामने, फायर स्टेशन के सामने, जिला परिषद मार्किट, प्रकाश चौक, महावीर चौक, जानसठ ओवरब्रिज, मीनाक्षी चौक, शिवचौक, भगत सिंह रोड, नावल्टी चौराहा, अंसारी रोड, रेलवे स्टेशन के पास, चंद्रा चौराहा, अहिल्याबाई चौक, घासमंडी आदि क्षेत्रों में जाम की सुनामी नजर आयी। लोग घंटों जाम के जंजाल में पफंसे हुए नजर आये।
जाम की स्थिति यह थी कि जो रास्ता पांच मिनट का था, वह घंटों का बन गया था। जाम में सबसे अधिक वह लोग प्रभावित हुए, जो कि बाहर से आये थे तथा जिन्हंे नगर के छोटे रास्तों का पता नहीं था। जिसके चलते वह जाम में ही उलझे रहे। जिसके विपरीत जो लोक स्थानीय थे तथा जिन्हें छोटे संपर्क मार्गों की जानकारी थी, वह जाम में कम ही पफंसे। जाम को खुलवाने को लेकर पुलिस वालों को अच्छा खासा पसीना बहाना पड़ा। इसमें थानाध्यक्ष को भी खुद ही कमान संभालनी पड़ी। जाम में फंसे गांव दतियाना निवासी प्रमोद कुमार का कहना था कि उसे किसी कार्य के लिए शामली जाना था, जिसके चलते वह होली एंजिल्स स्कूल के सामने से होता हुआ शिवचौक के द्वारा भगतंिसंह रोड होता हुआ जाना चाहता था, लेकिन वह होली एंजिल्स स्कूल के सामने लगे लंबे जाम को देखते हुए वापस हो लिया तथा आर्यपुरी से निकलने की कोशिश की, लेकिन टाउनहाल पर मंदिर के पास लगे जाम को देखते हुए वापस अंसारी रोड आया। उसके बाद नावल्टी चौराहे से निकलने की कोशिश की, लेकिन वहां तक जाम के चलते नहीं पहुंच पाया। उसके बाद अहिल्याबाई चौक से होते हुए लद्दावाला से निकलने की कोशिश की, लेकिन अहिल्याबाई चौक पर लगे लंबे जाम के चलते कामयाम नहीं हो सका। इसके बाद कच्ची सड़क होते हुए वापस पुलिस लाइन आया। उसके बाद महावीर चौक से होते हुए वहलना चौक पहंुचने की कोशिश की, जिसमें महावीर चौक पर लगे जाम से लगभग दस मिनट में निकलने में कामयाबी मिली, उसके बाद किसी प्रकार से वहलना चौक पर आया गया। जिसके चलते वह शामली जा सका। वहां से देर शाम वापस आने पर इसी रास्ते का प्रयोग किया गया, क्यांेकि प्रातः की भागदौड़ के बाद शाम को शहर के अंदर से आने की हिम्मत नहीं हुई थी। इस प्रकार की स्थिति आज कइयों को रही। जाम की सुनामी ने हर किसी को परेशान कर दिया था।

Share it
Top