गन्ना सचिव व ठेकेदार पर मिलीभगत का आरोप...किसानों ने डीसीओ समेत टिकौला मिल के अधिकारियों को बन्धक बनाकर सड़क पर लगाया जाम

रामराज। रामराज की सहकारी गन्ना समिति के निर्धरित गन्ना कैलेण्डर के अनुसार गन्ना पर्ची न आने से नाराज सैंकडों किसान गन्ना समिति में एकत्र हो गये तथा गन्ना माफियाओं द्वारा गन्ना समिति के सचिव व सृष्टि एसोसिएटस के मालिक गन्ना पर्ची वितरण ठेकेदार से सांठ-गांठ कर अवैध् तरीके से पर्ची लेने का आरोप लगाते हुए ध्ररने पर बैठ गये तथा मेरठ-पौडी राजमार्ग पर जाम लगा दिया। आक्रोषित किसानों ने ध्रने पर पहंुचे डीसीओ सहित टिकौला मिल के वरिष्ठ गन्ना प्रबंधक व गन्ना महाप्रबन्धक को बंधक बना लिया।
टिकौला शुगर मिल द्वारा अगेती प्रजाति के गन्ने का करीब 30 हजार कुन्तल गन्ने का इंडेन्ट सभी गन्ना समितियों को जारी किया गया था, किन्तु जब इंडेन्ट के बावजूद भी किसानों की गन्ना पर्चियां गेट के किसानों को नहीं मिली, तो सोमवार को किसान नेता राजेन्द्र टिकौला के नेतृत्व में ग्राम भुम्मा, तुल्हेडी, रहडवा, जलालपुर नीला, मोर्डकलां, जीवनपुरी, सदरपुर व मोर्डखुर्द समेत कई गांवों के प्रधान सैंकडों किसानों के साथ रामराज की सहकारी गन्ना समिति में पहंुच गये तथा हंगामा शुरू कर दिया। इस दौरान किसानों ने समिति के सुपरवाईजर ब्रहमसिंह पर रूपये लेकर गन्ना पर्चियां उपलब्ध् कराने का आरोप लगाते हुए गाली-गलौच करते हुए धक्का मुक्की की, तो सुपरवाईजर ब्रहमसिंह चुपचाप वहां से खिसक लिया, जिस पर किसानों ने समिति में ध्ररना शुरू करते हुए मौके पर जिला गन्ना अधिकारी समेत टिकौला शुगर मिल के अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग की, किन्तु जब घन्टों बाद भी कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहंुचा, तो नाराज किसान ध्ररने से उठकर रामराज थानाक्षेत्र के भारतीय स्टेट बैंक के सामने मेरठ-पौडी राजमार्ग पर पहंुच गये तथा यहां पुलिस के बैरियर लगाकर सडक के बीचो-बीच धरने पर बैठ गये। जाम की सूचना पर रामराज एसओ आनन्द प्रकाश मिश्रा पुलिस बल के साथ मौके पर पहंुच गये तथा जाम लगा रहे किसानों को समझाने का प्रयास किया, किन्तु किसान टस से मस नहीं हुए तथा मौके पर आलाधिकारियों को बुलाने तथा गन्ना माफयाओं के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराने की मांग पर अडे रहे। इसी बीच पूर्व ब्लॉक प्रमुख वीरेन्द्र सिंह भी धरनास्थल पर पहुंच गये तथा उन्होंने राहगीरों की परेशानी को देखकर किसानों को शांत करते हुए करीब एक घन्टे बाद मेरठ-पौडी राजमार्ग से जाम खुलवा दिया तथा ध्रनारत किसानों के साथ पुनः रामराज गन्ना समिति में पहंुचकर ध्ररना शुरू कर दिया। किसानों का आरोप है कि गन्ना माफयाओं द्वारा अवैध् तरीके से समिति के सचिव व गन्ना पर्ची वितरण ठेकेदार सृष्टि एसोसिएट्स के मालिक किरण कुमार द्वारा सांठ-गांठ कर अवैध् तरीके से गन्ना पर्ची निकलवाकर इन पर्चियों पर स्थानीय किसानों व बाहरी क्षेत्र से कम पैसो में गन्ना खरीदकर मिल को गन्ना आपूर्ति कर रहे हैं तथा गन्ना माफयाओं ने सचिव व पर्ची वितरण ठेकेदार से सांठ गांठ कर बेसिक कोटे कुछ किसानों की पर्चियां कोटे से 60 से 85 प्रतिषत जारी करवा ली हैं, जबकि गन्ना समिति रामराज में अभी तक गेट के किसानों को पहले सप्ताह के छटे पक्ष की पर्चियां जारी की गयी हैं, जिस कारण किसान गेंहू की फसल की बुआई नहीं कर पा रहे हैं। इसी बीच ध्रना स्थल पर पहंुचे टिकौला शुगर मिल के वरिष्ठ गन्ना महाप्रबन्ध लेखपालक सिंह व गन्ना महाप्रबन्धक पवन जैनर को किसानों ने बन्धक बनाकर ध्ररने पर बैठा लिया तथा जिला गन्ना को बुलाने की मांग की, जिस पर देर शाम ध्ररनास्थल पर पहंुचे जिला गन्ना अधिकारी राजेश्वर यादव को किसानों ने मुख्यमन्त्राी के नाम ज्ञापन देकर सचिव व सृष्टि एसोसिएटस के मालिक गन्ना पर्ची वितरण ठेकेदार किरण कुमार के विरूद्ध जांच कराकर कडी कार्यवाही करने की मांग की, जिस पर जिला गन्ना अधिकारी ने किसानों को आरोपियों के विरूद्ध जांच कराकर शीघ्र मुकदमा दर्ज कराने का आश्वासन देकर ध्रना समाप्त कराया। इस दौरान मुख्य रूप से ग्राम प्रधन कपिल , सचिन, फजरू, मदनगिरि, नेपाल, राजपाल सिंह, असरम पाल सिंह, सरोज सहित कैप्टन सुभाष, प्रताप सिंह, राम, अजय, कौशलवीर, अनिल, गजेन्द्र, प्रेम, कर्णवीर, लवकुश, दिनेश, अमित, नितिन, शेखर, बबलू, राहुल, जगविन्दर, गुड्डू, विनय, रोहित, मिन्टू आदि सैंकडों किसान मौजूद रहे।

Share it
Top