बच्चे की मौत पर नर्सिंग होम में हंगामा...डेंगू से पीडित को अंसारी रोड पर डॉ. रविन्द्र जैन के यहां भर्ती कराया था

मुजफ्फरनगर। तीन दिन पूर्व डेंगू से पीडित होने पर अंसारी रोड स्थित एक नर्सिंग होम में भर्ती कराये गये बच्चे की मौत होने पर आज परिजनों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान डॉक्टर व स्टाफ पर अभद्र व्यवहार करने व सही जानकारी न देकर गुमराह करने का आरोप भी मृतक बच्चे के परिजनों ने बताया। हंगामा बढने पर कई चिकित्सक भी मौके पर पहुंचे और उन्होंने बामुश्किल मामला सम्भाला। इस दौरान घंटों तक नर्सिंग होम पर अफरा-तफरी रही।
जानकारी के अनुसार नई मण्डी कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत गांव बहेडी निवासी 9 वर्षीय अभय गर्ग पुत्र मोहित गर्ग को तीन दिन पूर्व डेंगू बुखार से पीडित होने पर अंसारी रोड स्थित डॉ. रविन्द्र जैन व डॉ. सुनीता जैन के नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया था। परिजनों के अनुसार रात में बीमार बच्चे का सही उपचार नहीं किया गया और अगले दिन सुबह उसे हालत बिगडने पर मेरठ के लिये रैफर कर दिया गया। परिजन अभय गर्ग को लेकर मेरठ मैडिकल चले गये, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। आज मृतक बच्चे का शव लेकर परिजन डॉ. रविन्द्र जैन के नर्सिंग होम पर पहुंचे और आरोप लगाया कि बीमार बच्चे का सही ईलाज नहीं किया गया तथा उन्हें गुमराह करते हुए मृत अवस्था में ही बच्चे को मेरठ रैफर कर दिया गया था। इसी बात को लेकर काफी देर तक हंगामा चलता रहा। आरोप है कि कम्पाउंडर व अन्य स्टाफ ने पीडित परिवार के लोगों को डॉक्टर से नहीं मिलने दिया और उनसे अभद्रता शुरू कर दी। मामले की जानकारी मिलने पर भाजपा नेता विपुल त्यागी, मोहित गर्ग, अंकित गर्ग, राजकुमार, योगेश, नवीन, सुभाष आदि लोग भी नर्सिंग होम पहुंच गये और डॉक्टर से मिलने की जिद पर अड गये। हंगामा बढता देख डॉ. रविन्द्र जैन अपने क्लीनिक से बाहर निकलकर आये और पीडित परिवार से बातचीत की। स्टाफ द्वारा अभद्रता किये जाने से गुस्साये परिजनों ने जमकर नाराजगी जाहिर की। डॉक्टर ने भी अपने स्टाफ का ही पक्ष लिया। इसी बात को लेकर हंगामा पिफर से बढ गया। हंगामा बढता देख डॉ. रविन्द्र जैन ने फोन कर आईएमए के पदाधिकारी डॉ. ईश्वरचन्द्रा, डॉ. हेमन्त कुमार व अन्य चिकित्सकों को भी वहां बुला लिया। हंगामे की सूचना मिलने पर पुलिस भी वहां पहुंच गयी। काफी देर तक चली गहमा-गहमी के बाद डॉ. रविन्द्र जैन ने पीडित परिवार से अपने व्यवहार के लिये माफी मांग ली और स्टाफ को डांट पिलाई। नर्सिंग होम में हंगामा बढने के कारण उपचार कराने आये सभी मरीज भी बाहर जाकर खडे हो गये और काफी देर तक सड़क पर ही हंगामा शान्त होने का इंतजार करते रहे। तत्पश्चात मृतक बालक अभय गर्ग के शव को लेकर परिजन वहां से चले गये और गांव बहेडी में जाकर गमगीन माहौल में उसका अन्तिम संस्कार कर दिया।

Share it
Top