मुजफ्फरनगर: मतदान सकुशल सम्पन्न कराने को सजगता दिखायें अधिकारीः प्रियदर्शी

मुजफ्फरनगर: मतदान सकुशल सम्पन्न कराने को सजगता दिखायें अधिकारीः प्रियदर्शी

मुजफ्फरनगर। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी जीएस प्रियदर्शी ने जोनल व सैक्टर मजिस्ट्रेट को निर्देश दिये कि नगरीय निकाय चुनाव को सकुशल, शांतिपूर्ण तथा पारदर्शी ढंग से सम्पन्न कराना है। उन्होंने कहा कि जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट तहसील स्तर पर सम्बन्धित एसडीएम/क्षेत्राधिकारी के साथ मतदान से पूर्व एक बैठक करा लें और पुलिस थानों के साथ समन्वय रखें। निर्वाचन सम्बन्धी सभी नियमों की सम्पूर्ण जानकारी कर लें। सभी जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रेट उन्हें आवंटित जोन/सेक्टर के मतदेय स्थलों का निरीक्षण कर लें और जो कमियां हैं, उन्हें पूर्ण करा लें। सभी सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों के मोबाइल नम्बर सहित आवंटित क्षेत्र के सम्भ्रान्त नागरिकों के भी मोबाइल नं. अपने पास रखे और स्थानीय समस्याओं के बारे में जानकारी कर उन्हें दूर कराये।
जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी जीएस प्रियदर्शी आज यहां चौ. चरण सिंह सभागार में जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रेट की बैठक/प्रशिक्षण को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रेट को जो चैक लिस्ट दी गयी है, उसका अध्ययन कर लें। उन्होंने कहा कि पोलिंग पार्टियों की रवानगी के समय ही उन्हें नास्ते आदि का पैसा का भुगतान करा दिया जाये। उन्होंने बताया कि शान्तिपूर्ण, स्वतंत्र तथा निष्पक्ष ढंग से मतदान प्रक्रिया को सम्पन्न कराने हेतु प्रत्येक मतदान स्थल के लिए पीठासीन अधिकारी तथा मतदान अधिकारियों की नियुक्ति की गयी है। प्रत्येक निकाय को जोन/सेक्टर में विभाजित करके प्रत्येक जोन के लिए जोनल मजिस्ट्रेट एवं प्रत्येक सेक्टर मजिस्ट्रेट की नियुक्त की गयी है। उन्होंने कहा कि मतदान प्रक्रिया को सकुशल सम्पन्न कराने में जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रेट की कार्यकुशलता, दक्षता तथा सजगता अत्यन्त महत्वपूर्ण है।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रेट के रूप में नियुक्त सभी अधिकारी अपने आवंटित जोन/सेक्टर का नाम व संख्या, तहसील/निकाय का नाम व उसकी स्थिति, जोन/सेक्टर का मुख्यालय व उसकी स्थिति तथा उसके अन्तर्गत आने वाली क्षेत्रों का विवरण तथा जोन/सेक्टर के अन्तर्ग स्थित थाना एवं थानाध्यक्ष का दूरभाष/मोबाइल नम्बर प्राप्त कर लें।
जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि नगरीय निकाय निर्वाचन से सम्बन्धित जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रेट मतदान करने की प्रक्रिया का भली भांति प्रशिक्षण ले, जिससे मतदान में पीठासीन अधिकारी को आवश्यकतानुसार जरूरत पडने पर मार्ग दर्शन कर सके। उन्होंने कहा कि अपने से सम्बन्धित जोन/सेक्टर के अन्तर्गत आने वालें मतदान केन्द्रे/मतदान स्थलों के नाम व उनकी संख्या, उनकी स्थिति, प्रत्येंक मतदान स्थल से सम्बद्ध वार्डों/निर्वाचन क्षेत्रों तथा मतदान के लिए अधिसूचित पदों/स्थलों, प्रत्येक मतदान स्थल पर मतदाताओं की संख्या आदि की स्पष्ट तथा सम्यक जानकारी भी प्राप्त कर लें। उन्होंने कहा कि मतदान स्थल पर प्रक्रिया को सम्पन्न कराने के लिए वांछित निर्वाचन सामग्री प्रत्येक मतदान स्थल के लिए नियुक्त किये गये पीठासीन अधिकारी को सम्बन्धित रिटर्निंग अधिकारी/सहायक रिटर्निंग अधिकारी द्वारा मतदान के पूर्व उपलब्ध करा दी जाती है। उन्होंने कहा कि मतदान के लिए प्रयुक्त होने वाली महत्वपूर्ण निर्वाचन सामग्री यथा अमिट स्याही, ब्रास सील, पेपर सील, मतपेटी, पद/स्थानवार मतपत्रों के रंग, निर्वाचन प्रतीकों, आवंटित क्षेत्र तथा सम्बन्धित क्षेत्र की निर्वाचक नामावली क्रमवार आदि की सम्यक जानकारी आवश्यक है।
पुलिस विभाग द्वारा जारी मतदान स्थलों पर सुरक्षा व्यवस्था संबंधी पुस्तिका, संवेदनशील/अति संवेदनशील मतदान केन्द्रों/स्थलों की सूची, सेक्टर में नियुक्त किये गये पुलिस क्षेत्राधिकारी के नाम/पते व मुख्यालय का विवरण तथा सेक्टर से सम्बन्धित थाने की सूची उनके टेलीफोन नं. सहित प्राप्त कर अपनी डायरी में अंकित कर लें। उन्होंने कहा कि सेक्टर/जोन से सम्बन्धित सभी मतदान केन्द्रों/स्थलों का भ्रमण करके मतदान स्थलों की स्थिति, संवेदनशील आदि के बारे मे स्थानीय स्तर पर पूछताछ करके पता लगा ले।
मतदान दिवस के दो दिन पूर्व जोनल मजिस्ट्रेट/सेक्टर मजिस्ट्रेट आवंटित नगर निकाय के क्षेत्र का भ्रमण करके क्षेत्र की संवेदनशील का आंकलन करेंगे। उन्होंने कहा संवेदनशील/अति संवेदनशील इलाकों के अतिरिक्त मतदाताओं से बातचीत करने पर यदि कोई अन्य क्षेत्र संवेदनशील पाया जाता है, तो जिला मजिस्ट्रेट द्वारा नामित अधिकारी को उसकी सूचना उपलब्ध कराये।
उन्होने कहा कि अपने-अपने सेक्टर/जोन से सम्बन्धित मतदान दलों की समय से रवानगी के उपरान्त मतदान दलों के अपने गन्तव्य मतदान स्थल पर सुरक्षित एवं सकुशल पहुचना सुनिश्चित करने हेतु मतदान दलों की रवानगी के दिन ही सायं प्रत्येक सेक्टर मजिस्ट्रेट के अपने से सम्बन्धित समस्त मतदान केन्द्रों/स्थलों का भ्रमण कर सुनिश्चित कर लेना होगा। उन्होने कहा कि रिटर्निंग अधिकारी/उप जिला निर्वाचन अधिकारी बिना बताये अपना सेक्टर/जोन मुख्यालय कदापि न छोडें।

Share it
Top