शिक्षित हाथों में होगी पालिका की कमान...चेयरमैन पद की आधी आबादी अधिकतर है स्नातक, इंटरमीडिएट व हाईस्कूल पास

मुजफ्फरनगर। स्थानीय निकाय चुनावी प्रक्रिया जारी है। इस प्रक्रिया में दो चरण पूरे हो चुके हैं, एक नामांकन लेने/दाखिल करने का व दूसरा उनकी समीक्षा का। अब नाम वापसी व प्रतीक चिन्हों का आवंटन होना शेष है। जिसके बाद 26 नवंबर को निर्वाचन होने के उपरांत एक दिसंबर की जादुई तिथि जनपद के नगर पालिका के इतिहास में एक नया अध्याय लिखते हुए नगरवासियों को एक शिक्षित चेयरमैन देगी। चुनावी समर में जो प्रत्याशी चेयरमैन पद को लेकर रह गये हैं, उसमें से अधिकतर स्नातक हैं तथा शेष इंटर व हाईस्कूल हैं। 26 नवंबर को छह महारथियों के मध्य होने वाला मुकाबला कांटे का होगा, यह तो तय है।
नगर पालिका परिषद, मुजफ्फरनगर की कमान इस बार शिक्षित आधी आबादी के हाथों में होगी। अक्सर यह देखा गया है कि बड़े पदों पर अधिकांश कुछ स्थानों पर निरक्षर व कम पढ़े-लिखे आसीन हो जाते हैं, लेकिन नगर पालिका परिषद, मुजफ्फरनगर के लिए ऐसा नहीं है। इस बार भी पिछले बार की तरह से पालिका की कमान शिक्षित हाथों में रहेगी। अंतर इतना है कि पिछली बार पुरूष के हाथों में थी, इस बार आधी आबादी के हाथों में है। इस बार चेयरमेन पद को लेकर चुनावी समर में उतरी छह आधी आबादी में से एक भी कम पढ़ी लिखी या निरक्षर नहीं है। इसमें सबसे पहले यदि बात की जाए भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी सुधाराज शर्मा की, तो वह स्नातक व डिप्लोमा होल्डर हैं। समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी मिथलेश पाल की यदि बात की जाए, तो वह भी स्नातक हैं और वह विधायक के पद पर भी आसीन रह चुकी हैं, उनके पास अनुभव की किसी प्रकार की कमी नहीं है। सभी प्रत्याशियों के मुकाबले वह राजनीति के मैदान की शतरंज की खिलाड़ी कह जा सकती हैं। इसके उपरांत बात की जाए राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की प्रत्याशी अंजू अग्रवाल की, तो वह भी स्नातक हैं, वह भले ही राजनीति में नयी हो, लेकिन उनके परिवार में राजनीति के बड़े खिलाड़ी शामिल हैं, जिसमें पूर्व चेयरमैन पंकज अग्रवाल किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं,उनके अनुभव का लाभ अंजू अग्रवाल को चुनावी युद्धा में अवश्य ही मिलेगा। बहुजन समाज पार्टी की प्रत्याशी मुदस्सिरजहां इंटर पास हैं। वहीं राष्ट्रीय लोकदल की प्रत्याशी शबनम परवीन हाईस्कूल पास हैं। इसके अलावा भाजपा से बगावत करने के बाद निर्दलीय के रूप में अपना चुनावी दावा करने वाली सरिता अरोरा शर्मा भी शिक्षा मंे स्नातक हैं। सभी प्रत्याशियों में सबसे अधिक आयु वाली प्रत्याशी अंजू अग्रवाल (56) हैं तथा सबसे कम आयु की रालोद की शबनम परवीन (34) हैं। यदि निर्दलीय प्रत्याशी पूर्व विधायक श्रीमती सुशीला अग्रवाल (75) अपना नामांकन वापस लेने का निर्णय नहीं लेतीं, तो वह ही सबसे अधिक आयु वाली प्रत्याशी होने का गौरव हासिल करतीं। कुल मिलाकर यह नगर पालिका व नगर की जनता के लिए सौभाग्य की बात है कि पालिका की बागडोर शिक्षित हाथों में रहेगी।

Share it
Top