नगर निकाय चुनाव निष्पक्ष होंगे सम्पन्नः प्रियदर्शी

नगर निकाय चुनाव निष्पक्ष होंगे सम्पन्नः प्रियदर्शी

मुजफ्फरनगर। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी जीएस प्रियदर्शी ने कहा कि राजनैतिक दल/प्रत्याशियों द्वारा चुनाव प्रचार के दौरान बिना अनुमति के किसी भी प्रकार की प्रचार सामग्री/माध्यमांे का उपयोग नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नगरीय निकाय सामान्य निर्वाचन-2017 को स्वतंत्रा, निष्पक्ष एवं पारदर्शी ढंग से सम्पन्न कराया जायेगा। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ने राज्य निर्वाचन आयोग के पत्रा के क्रम में राजनैतिक दलों/ प्रत्याशियों द्वारा टीवी चैनल, टीवी नेटवर्क, रेडियो एवं अन्य इलैक्ट्रोनिक माध्यमों से चुनाव प्रचार मंे प्रयुक्त होने वाली समस्त दृश्य एवं श्रव्य प्रचार सामग्री का सम्यक परीक्षण किये जाने के लिए जिला स्तर पर एक समिति का भी गठन किया है। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ने अपर जिला मजिस्ट्रेट प्रशासन की अध्यक्षता में समिति गठित करते हुए अपर पुलिस अधीक्षक नगर सम्बन्धित उप जिलाधिकारी, सहायक आयुक्त मनोरंजन कर एवं सहायक सूचना निदेशक को सदस्य बनाया है। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ने निर्देश दिये है कि उक्त समिति द्वारा राजनैतिक दलों/प्रत्याशियों द्वारा उपलब्ध कराये गये प्रचार सामग्री का भली-भांति परीक्षण करने के उपरान्त चुनाव प्रचार हेतु अनुमति प्रदान की जायेगी। उन्होंने कहा कि समिति द्वारा लिये गये किसी निर्णय से किसी राजनैतिक दल/प्रत्याशी संतुष्ट न हो, तो वह जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ;न0नि0द्ध को प्रत्यावेदन प्रस्तुत करेंगे, जिस पर जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा निर्णय लिया जायेगा। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि नगरीय निकायों के निर्वाचन में राजनैतिक दल/प्रत्याशियों द्वारा चुनाव प्रचार हेंतु चुनाव प्रचार सामग्री के मुद्रण एवं प्रकाशन तथा प्रिंट मीडिया में विज्ञापन दिये जाने के सम्बन्ध में आयोग द्वारा दिये गये निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित कराया जायेगा। उन्होेंने कहा कि राजनैतिक दलों/प्रत्याशियों द्वारा चुनाव प्रचार के दौरान पम्पलेट, स्टीकर एवं बैनर आदि प्रचार सामग्री मुद्रित एवं प्रकाशित करायी जाती है। उन्होंने कहा कि कोई भी मुद्रक या प्रकाशक या कोई व्यक्ति ऐसी कोई निर्वाचन/प्रचार सामग्री जिसके मुखपृष्ठ पर उसके मुद्रक व प्रकाशक का नाम और पता न हो, मुद्रित या प्रकाशित न करेगा और न ही करायेगा। उन्होंने कहा कि मुद्रण में पफोटोकॉपफी प्रतियां भी सम्मिलित मानी जायेगी। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि कोई भी व्यक्ति चुनाव पम्पलेट, बैनर, स्टीकर, प्रचार सामग्री आदि का न मुद्रण करेगा, जब तक कि प्रकाशक अपने द्वारा हस्ताक्षित तथा व्यक्तिगत रूप से उसे जानने वाले दो व्यक्तियों द्वारा अनुप्रमाणित घोषणा पत्रा दो प्रतियों में मुद्रक को न उपलब्ध करा दे। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि सभी प्रचार सामग्री पर मुद्रक और प्रकाशक का स्पष्ट नाम व पता अंकित होगा। उन्होने कहा कि प्रचार सामग्री की एक प्रति जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ;न0नि0द्ध को युक्तियुक्त समयावधि में उपलब्ध करायी जायेगी। उन्होंने बताया कि यदि कोई विज्ञापन राजनैतिक दल/प्रत्याशी की सहमति अथवा जानकारी में है, तो यह माना जायेगा कि उक्त विज्ञापन सम्बन्धित राजनैतिक दल/प्रत्याशी द्वारा अधिकृत किया गया है और विज्ञापन का व्यय सम्बन्धित राजनैतिक दल/प्रत्याशी के चुनाव व्यय के खाते में जोडा जायेगा। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति द्वारा राजनैतिक दल/प्रत्याशियों की अनुमति के द्वारा उनके पक्ष में निर्वाचन विज्ञापन, प्रचार सामग्री प्रकाशित नहीं करायी जायेगी। उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति बिना प्रत्याशियों की अनुमति के निर्वाचन प्रचार सामग्री प्रकाशित कराता है, तो ऐसे प्रकाशक के विरू( भा.द.सं. की धारा 171-एच के उल्लंघन के लिए अभियोजन की कार्यवाही की जा सकती है। जिला मजिस्ट्रेट/जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि जनपद स्तर पर गठित समिति राजनैतिक दलों/प्रत्याशियांे द्वारा चुनाव प्रचार सामग्री के मुद्रण एवं प्रकाशन तथा प्रिंट मीडिया में दिये जाने वाले विज्ञापनों पर निगरानी रखेंगी तथा निर्देशों का उल्लघंन होने पर सम्बन्धित के विरू( आवश्यक कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

Share it
Top