आराम होगा अब हराम, नहीं कर सकेंगे मनमर्जी की नौकरी...दस दिन से कम ड्यूटी करने पर धोना पड़ेगा नौकरी से हाथ

आराम होगा अब हराम, नहीं कर सकेंगे मनमर्जी की नौकरी...दस दिन से कम ड्यूटी करने पर धोना पड़ेगा नौकरी से हाथ

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम में अब आराम हराम हो जाएगा। अब संविदा के चालक व परिचालक मनमर्जी की नौकरी नहीं कर सकेंगे। यदि ऐसा किया गया,तो सीधे घर का टिकट थमा दिया जाएगा। इसी परिपाटी पर चलते हुए निगम के एमडी के द्वारा ऐसे आराम करने वाले कर्मचारियों की कुंडली तैयार करवाई जा रही है। जिसके बाद उन्हें पूर्णरूप से आराम करने को लेकर घर भेज दिया जाएगा।
पिछले तीन महीनों में दस दिन से कम ड्यूटी करने वाले संविदा चालक-परिचालक आने वाले कुछ ही दिनों में परिवहन निगम की नौकरी से कम हो जाएंगे। निगम में नौकरी ज्वाइन करने के बाद सैंकडों संविदा चालक व परिचालकों के द्वारा मनमाने तरीके से ड्यूटी करने की शिकायतें कापफी समय से मुख्यालय को प्राप्त हो रही थीं। की गयी शिकायतों में सामने आया कि जब मन हुआ चालक व परिचालकों के द्वारा ड्यूटी करने चले आये। जिस दिन मन नहीं किया उस दिन घर पर आराम पफरामाया गया। ऐसी शिकायतों पर निगम के प्रबंध निदेशक पी. गुरूप्रसाद के द्वार गंभीरता दिखाते हुए संज्ञान लिया गया। जिसके चलते उन्होंने दस दिन से कम ड्यूटी करने के साथ ही शून्य किलोमीटर संचालित करने वाले कर्मचारियों की सूची तलब कर ली है। जिसे उन्होंने सभी को सात दिनों में मुख्यालय को भेजने के आदेश जारी किये हैं। रोडवेज में नौकरी करने वाले जिस कर्मचारी ने जुलाई, अगस्त व सितंबर में अधिक आराम पफरमाय होगा, हो सकता है कि शीघ्र ही वह घर पर हमेशा के लिए आराम करने को भेज दिया जाए। वजह है कि परिवहन निगम ने राजधानी समेत प्रदेश के सभी डिपो से ऐसे लापरवाह चालकों व परिचालकों की सूची तलब की है, जिन्होंने दस दिन से कम ड्यूटी के साथ ही बस का भी संचालन न किया हो या कुछ ज्यादा ही गेैरहाजिर रहे हो। सूची प्राप्त होने पर ऐसे परिचालकों पर मुख्यालय स्तर से नौकरी से निकालने की कार्यवाही की जाएगी। परिवहन निगम के मुख्य प्रधान प्रबंधक संचालन एचएस गाबा ने बताया कि निगम के प्रबंध निदेशक पी. गुरू प्रसाद ने गैरहाजिर व काम में लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों पर कार्यवाही करने के सख्त निर्देश जारी किये हैं। प्रबंध निदेशक के निर्देश पर राजधानी समेत प्रदेश की सभी डिपो को सर्कुलर भेज कर दस दिनों से कम नौकरी पर आने वालों की सूची सात नवंबर तक मुख्यालय भेजने को कहा गया है। निर्धारित तिथि तक प्राप्त होने वाली लापरवाह कर्मचारियों की सूची प्रबंध निदेशक को सौंपी जाएगी। इसके बाद इन सभी कर्मचारियों को नौकरी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाएगा। निगम मुख्यालय से सभी डिपो को आदेश मिलते ही ऐसे लापरवाह चालकों व परिचालकांे का पिछले तीन माह जुलाई, अगस्त व सितंबर का रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है।

Share it
Top