लेखपाल ने रिश्वत न देने पर नाबालिग को बना दिया बालिग

लेखपाल ने रिश्वत न देने पर नाबालिग को बना दिया बालिग

जानसठ। हल्का लेखपाल का एक नया कारनामा प्रकाश में आया है। तहसील क्षेत्रा के गांव संभलहेड़ा के हल्का लेखपाल ने एक विधवा बेसहारा से रिश्वत की मांग की। रिश्वत न देने में असमर्थता जताने पर हल्का लेखपाल ने उसके 12-13 साल के लड़के को 18 साल दर्शाकर परिवारिक लाभ योजना के आए फार्म को निरस्त कर दिया। प्राप्त समाचार के अनुसार तहसील क्षेत्र के गांव संभलहेड़ा निवासी नईमा पत्नी स्वर्गीय अली हसन ने जानसठ उप जिलाधिकारी श्यामअवध चौहान को एक शिकायती पत्र देते हुए बताया कि उसके पति की मृत्यु सात माह पूर्व हो गई थी। मृत्यु के उपरांत पीड़िता ने परिवारिक लाभ योजना का फार्म भरा था, जिसकी जांच हल्का लेखपाल को सौंपी गई। हल्का लेखपाल ने उससे जांच के नाम रिश्वत की मांग की। महिला ने गरीब वह लाचार होने के कारण रिश्वत देने में असमर्थता जताई, तो हल्का लेखपाल ने पीड़िता की फाइल निरस्त कर दी और यह बताया कि तुम्हारा पुत्र बालिग है, इसलिए आप लाभ योजना की पात्रा नहीं है। बेचारी विधवा पीड़िता ने लेखपाल की कापफी मन्नत की, लेकिन लेखपाल का दिल नहीं पसीजा। पीड़िता ने तंग आकर तहसील परिसर में आपबीती सुनाते हुए एक प्रार्थना पत्र उप जिलाधिकारी श्याम अवध चौहान को दिया, जिस पर उप जिलाधिकारी ने पीड़िता की गंभीरता पूर्वक शिकायत सुनी और तुरंत हल्का कानूनगो को बुलाकर पुनः जांच कराने के आदेश दिए।

Share it
Top