मुजफ्फरनगर: धूमधाम से निकला गुरू का नगर कीर्तन...गुरूद्वारा रोडवेज पर जाकर समाप्त हुआ नगर कीर्तन, गुरू का अटूट लंगर आयोजित

मुजफ्फरनगर। गुरूवार को शहर की सड़कों पर नगर कीर्तन लेकर पंच प्यारे निकले। नगर कीर्तन का नगर में जगह-जगह पर भव्य स्वागत किया गया। नगर कीर्तन में गतका करने वालों ने सभी का मन मोह लिया। इसके साथ ही पंजाब से आया बैंड भी लोगों के आकर्षण का केंद्र रहा। नगर कीर्तन गांधी कालोनी स्थित गुरूद्वारे से प्रारंभ होकर रात्रि में रोडवेज बस स्टैंड स्थित गुरूद्वारे पर जाकर समाप्त हुआ। इसके बाद गुरू का अटूट लंगर आयोजित हुआ। गुरूनानक देव के प्रकाश पर्व पर चार नवंबर को रोडवेज गुरुद्वारा पर दीवान सजाया जाएगा।
श्री गुरू सिंह सभा के द्वारा गुरू नानक देव जी के अवतार पुरब के उपलक्ष्य में गुरुवार को नगर कीर्तन का आयोजन किया गया। इसमें जिले भर की गुरू नानक नाम लेवा संगतों ने जोश और प्रेम भाव के साथ प्रतिभाग किया। नगर कीर्तन पंच प्यारों की अगुवाई में गांधी कालोनी गुरुद्वारा से प्रारम्भ होकर गली नंबर 14 से होता हुआ मेन रोड के द्वारा लिंक मार्ग, भोपा रोड, अंसारी रोड, नावल्टी चौक, शिवमूर्ति, झांसी रानी चौक होता हुआ गुरूद्वारा रोडवेज पर जाकर रात्रि में सम्पन्न हुआ। इसके बाद गुरू के अटूट लंगर का आयोजन किया गया। नगर कीर्तन में कई बैंड, करतब दिखाने वाली पार्टी आकर्षण का केंद्र रही। वही पंजाब से आया बैंड भी लोगों के आकर्षण केंद्र रहा। गुरू गोविन्द सिंह पब्लिक स्कूल के बच्चों द्वारा गुरूवाणी के शब्दों का सुन्दर गुणगान किया गया। गुरू ग्रंथ साहिब की पालकी के आगे संगतों के द्वारा जल छिड़काव व झाडू लगाकर अपनी श्रद्धा को प्रकट किया गया। संगतें नगर कीर्तन के गुजर जाने के बाद कूड़ा करकट भी साथ-साथ साफ करते हुए चल रही थी, जिसने सभी का मन मोह लिया। निहंग सिंघों का जत्था गुरू ग्रंथ साहिब की पालकी के साथ चल रहा था। नगर कीर्तन के लिए रास्ते में लंगर के स्टाल लगाकर सेवा भी की गयी। शहर को तोरण द्वारों से सजाया गया था। श्री गुरू सिंह सभा के महासचिव विरेंद्र सिंह हनी सेखो ने बताया कि मुख्य पर्व 4 नवंबर को गुरूद्वारा रोडवेज पर सवेरे नौ बजे से होगा, इसमें दीवान सजाया जायेगा। पटियाला से आ रहे रागी ज्ञानी हरजिन्दर व ज्ञानी जोगा सिंह गुरू नानक देव के इतिहास का वर्णन करेंगे।
नगर कीर्तन में मुख्य रूप से गुरू सिंह सभा के अध्यक्ष सुखदर्शन सिंह बेदी, अमरजीत सिंह सिडाना, धनप्रीत सिंह चन्नी बेदी, वजीर सिंह ग्रोवर, वजीर सिंह राजा, सुरजीत सिंह, प्रभजोत सिंह, तरजिन्दर सिंह, जितेंद्र पाल सिंह, दिवप्रीत सिंह, ज्ञानी अमरजीत सिंह, गुरनाम सिंह, त्रिलोचन सिंह मान, इन्द्रजीत सिंह सेखो, देवेंद्र सिंह नागपाल, सुखमन्दर सिंह, डा. उजागर सिंह सलूजा आदि शामिल रहे।

Share it
Top