सपा प्रत्याशी घोषित होते ही भाजपाईयों में बढी बेचैनी

सपा प्रत्याशी घोषित होते ही भाजपाईयों में बढी बेचैनी

खतौली। नगरपालिका परिषद अध्यक्ष पद के लिये समाजवादी पार्टी द्वारा अपना प्रत्याशी तय कर दिये जाने के बाद अब भाजपा प्रत्याशी की घोषणा होने तक कस्बे में राजनैतिक गहमा गहमी चरम पर पहुँच गयी है। सपा प्रत्याशी के रूप में काजी जमील अहमद की पत्नी बिलकिस बानो का नाम तय कर दिया गया है। काजी जमील की पत्नी के पार्टी प्रत्याशी तय होने के बाद सपा नगराध्यक्ष जमशेद मलिक के खेमें में भारी मायूसी का माहौल है। चर्चा है कि जिले के गुटों में बंटे सपा नेताओं के एक गुट ने पार्टी सिम्बल दिलाने के नाम पर जमशेद मलिक का जमकर आर्थिक दोहन किया है। चर्चा है कि जमशेद मलिक के सामने काजी जमील को पार्टी सिम्बल लेने के लिये नाकों चने चबाने पड़े है। चर्चा है कि काजी जमील ने पार्टी प्रत्याशी बनने की जंग भले ही जीत ली हो, किन्तु अब उन्हें जमशेद मलिक के साथ लगे सपाइयों के विरोध् को भी झेलने पड़ेगा। दूसरी और सपा का सिम्बल लगभग फाईनल होने के साथ ही अब कस्बेवासियों की दिलचस्पी भाजपा प्रत्याशी के घोषणा होने में बढ़ गयी है। चर्चा है कि खतौली के लिये भाजपा प्रत्याशी तय करने के लिये पार्टी आलाकमान को भारी पसीना बहाना पड़ रहा है। चर्चा है कि भाजपा के जिला स्तर से गये नामों में सांसद प्रतिनिध् मदन छाबड़ा की पत्नी अनीता छाबडा, सुध्ीर गोयल की बहन श्रीमती मीनाक्षी बंसल, पूर्व चेयरमैन पारस जैन की माता श्रीमति ऋतु जैन का नाम क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थानों पर चल रहा है। मदन छाबडा की पार्टी समर्पित छवि के चलते उनकी पत्नि को सिम्बल मिलने के आसार है।इसके अलावा सुध्ीर गोयल की बहन मीनाक्षी बंसल का राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के साथ लम्बे अर्से से जुड़ा होना उनके भाजपा प्रत्याशी होने के आसार पैदा कर रहा है। इसके अलावा पूर्व चेयरमैन पारस जैन ने भी अपनी माता श्रीमति ऋतु जैन को पार्टी प्रत्याशी घोषित कराने के लिये पूरी ताकत झोंक रखी है। भाजपा सूत्रों के अनुसार शुक्रवार तक पार्टी प्रत्याशियों की घोषणा आलाकमान द्वारा कर दी जायेगी।

Share it
Top