गन्ना मूल्य नाकाफी, कल जलेगी गन्ने की होली: भाकियू

गन्ना मूल्य नाकाफी, कल जलेगी गन्ने की होली: भाकियू

मुजफ्फरनगर। भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गन्ने के दाम में पांच से दस रुपये प्रति कुन्तल की बढ़ोत्तरी को नाकाफी बताते हुए कहा कि इसके विरोध में कल किसान गन्ने की होली जलाई जायेगी। भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैट ने गन्ना मूल्यों में दस रुपये प्रति कुन्तल तक बढ़ाये जाने को किसानों के साथ भद्दा मजाक करार दिया। उन्होने कहा कि राज्य विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसानों को गन्ने को लाभकारी मूल्य दिलाने का वायदा किया था। मात्र दस रुपये गन्ने का दाम बढ़ाना उनके साथ मद्दा मजाक है। इसके विरोध में भाकियू कल जिला मुख्यालयों पर गन्ना जलाकर विरोध दर्ज करायेगी। उन्होंने कहा कि गन्ना किसानों की भावनाओं से खेलकर भारतीय जनता पाटी सत्ता में आई है। सरकार ने पैराई सत्र 2०17-18 के लिए गन्ना मूल्य में दस रुपये की वृद्धि किसानों का अपमान किया है। उन्होंने कहा कि खेती पर बढ़ती लागत को ध्यान में रखकर कम से कम 45० रुपये प्रति कुन्तल गन्ना मूल्य किया तय किया जाना चाहिए था। भाकियू प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा ने चुनाव के दौरान जारी संकल्प पत्र में उचित और लाभकारी मूल्य देने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि डीजल, बिजली, पेस्टीसाईड्स, खाद के दाम बढऩे से खेती लागत में काफी वृद्धि हुई है। प्रदेश में गन्ना मूल्य तय करने को लेकर आयोजित बैठक में भी किसानों ने अपनी लागत का आंकड़ा गन्ना विभाग को दिया था। भाजपा विपक्ष में थी तो उनके प्रवक्ता 45० रुपये प्रति कुन्तल गन्ने के दाम की मांग करते थे। उन्होंने कहा कि भाकियू की सरकार से मांग है कि गन्ना मूल्य पर पुनर्विचार किया जाये।

Share it
Top