कृषि विभाग की लापरवाही से फसल हुई बर्बाद

कृषि विभाग की लापरवाही से फसल हुई बर्बाद

भोपा। कृषि विभाग की लापरवाही के चलते क्षेत्र के धान किसानों की बदहाली का संकट खडा हो गया है। खण्ड विकास कार्यालय परिसर में स्थित राजकीय बीज गोदाम द्वारा किसानों को बेचे गये खराब बीज के कारण सैंकडों बीघा धान की खडी पफसल सूख गयी है। महंगी लागत के साथ उगायी गयी पफसल के बर्बाद हो जाने से किसानों में सरकार के प्रति रोष व्याप्त हो गया है। किसानों द्वारा सहायक कृषि अधिकारी मोरना, जिला कृषि अधिकारी, कृषि उपनिदेशक से बर्बाद फसल के बारे में बार-बार शिकायत करने के बावजूद कोई भी अधिकारी मौके पर निरीक्षण के लिए नहीं पहंुचा है। पीडित किसानों ने प्रदेश के मुख्यमंत्राी से पफसल के मुआवजे की गुहार लगायी है तथा अन्यथा की स्थिति में जिलाधिकारी कार्यालय पर अर्धनग्न होकर प्रदर्शन करने की चेतावनी दी है। विकास खण्ड मोरना क्षेत्रा के ग्राम छछरौली के जंगल में शुक्रताल मार्क के आसपास खेती कर रहे किसान चौ. ब्रजवीर सिंह पुत्रा छांगे सिंह ने बताया कि बीते जून माह में उन्होने व क्षेत्र के सुक्रमपाल, कुलदीप, धर्मसिंह व अन्य किसानों ने राजकीय बीज भण्डार मोरना से 43.35 रूपये की दर से पीबी 6 प्रजाति का धान का बीज खरीदकर अपने खेतों में बोया था। अच्छी लागत लगाकर किसानों ने धान की फसल को उगाया। पफसल बडी हो जाने पर स्वतः ही सूखने लगी। बार-बार कीटनाशकों का प्रयोग करने के बावजूद रोग का निदान नहीं हो पाया। विशेषज्ञों द्वारा बीज में जैनेटिक खराबी बतायी गयी, जिसके चलते क्षेत्रा में खडी सैंकडों बीघा धान की फसल बर्बाद हो चुकी है। जिससे किसानों की आर्थिक स्थिति खराब होगी तथा उसको पुनः कर्ज लेकर दूसरी पफसल को उगाना पडेगा। जिला कृषि अधिकारी यशवीर सिंह तेवतिया का फोन रिसीव नहीं हो पाया। भाकियू के जिलाध्यक्ष राजू अहलावत ने बताया कि किसान की पफसल बुवाई में बीज की धांधली को लेकर किसान प्रतिनिधिमण्डल के साथ जिलाधिकारी गौरीशंकर प्रियदर्शी से मिलकर मामले की जानकारी देगा तथा जो भी खराब बीज वितरण में दोषी पाया जायेगा। भाकियू उसके विरू( कडी कार्यवाही के लिए धरना प्रदर्शन करेगी।

Share it
Top