हंगामे की भेंट चढ़ी मिल प्रशासन से वार्ता

हंगामे की भेंट चढ़ी मिल प्रशासन से वार्ता

बुढ़ाना। विभिन्न मांगों को लेकर किसानों के प्रतिनिधि मंडल व चीनी मिल प्रशासन के बीच सोमवार को दोपहर बाद हुई वार्ता किसानों के हंगामे की भेंट चढ़ गई। वार्ता के दौरान किसानों की आपसी छींटाकशी से किसान क्षुब्ध होकर वार्ता बैठक से उठकर चले आए। एक सप्ताह पूर्व चीनी मिल पर चल रहा किसानों को धरना किसानों के 100 करोड़ का भुगतान हो जाने पर समाप्त हो गया था। किसानों ने बाकी बचे 17 करोड़ के भुगतान व नये सत्र सम्बंधी विभिन्न समस्याओं के निराकरण हेतु वार्ता के लिए 23 अक्टूबर का समय दिया था। किसानों के ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह व विनोद मलिक के नेतृत्व में किसानों के प्रतिनिधि मंडल ने अपनी विभिन्न समस्याओं को लेकर सोमवार को चीनी मिल के अधिकारियों से वार्ता करने पहुंचा। दोपहर बाद मिल के मीटिंग हाल में भैंसाना चीनी मिल के उपाध्यक्ष राज सिंह चौधरी व गन्ना प्रबंधक जेबी तोमर के साथ वार्ता हुई। अधिकारियों व किसानों के बीच घंटो चली वार्ता में जमकर हंगामा हुआ। किसानों ने चीनी मिल के गेट पर गन्ना तोलने में वेटिंग का समय कम करने की मांग की। आगामी सत्रा का गन्ने का भुगतान 14 दिन के अंदर दिलवाने की मांग की। गन्ना क्रय केन्द्र व मिल गेट का हाडा बराबर रखने की भी मांग की। चीनी मिल के यार्ड व सम्बंधित रोड की मरम्मत करवाने, गन्ना क्रय केन्द्रो पर किसानों के पीने के पानी के लिए व्यवस्था करने की मांग की गई। इस बीच वार्ता के दौरान अन्य कई किसानों ने भी पहुंचकर अपनी-अपनी मांग रखनी आरम्भ कर दी। किसानों की आपसी छींटाकशी व हो हल्ला हुआ, तो कई किसान वार्ता बीच में ही छोड़कर उठ गये। चीनी मिल के अधिकारियों व किसानों के बीच घंटों चली वार्ता किसानों की एक राय न होने के कारण हंगामें की भेंट चढ़ गई। इस दौरान गुलाम मौहम्मद, जमशेद, जगपाल सिंह, चरण सिंह, ब्रजबीर, विकास त्यागी, सोमपाल, गुल्लू आदि मौजूद रहे।

Share it
Top