मुख्यमंत्री के समक्ष उठाया जाएगा भूमि घोटाला व अस्पताल का मुद्दा

मुख्यमंत्री के समक्ष उठाया जाएगा भूमि घोटाला व अस्पताल का मुद्दा

मुजफ्फरनगर। पिछले 22 साल से कचहरी मुजफ्फरनगर में धरने पर बैठे मास्टर विजय सिंह बिजनौर (नजीबाबाद) में 24 अक्टूबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलेंगे। जहां वह मुख्यमंत्री से मुलाकात में भूमि घोटाले व सरकारी अस्पताल में डाक्टर व कर्मचारी द्वारा रिश्वत मांगने व इलाज में गड़बड़ करने तथा सरकारी डाक्टर मनोज सैन द्वारा प्राईवेट हॉस्पिटल खोलकर प्राईवेट आंखांे के आपरेशन करना शासनादेश का उल्लंघन करना आदि के मामले मुख्यमंत्री के समक्ष रखकर कार्यवाही की मांग करेंगे। जिलाधिकारी बिजनौर व मुख्यमंत्री को इस आशय का प्रार्थनापत्र उनकी ओर से भेजा गया है।
मास्टर विजय सिंह जिलाधिकारी कार्यालय मुजफ्फरनगर के समक्ष शामली क्षेत्र के गांव चौसाना में 4000 बीघा सार्वजनिक कृषि भूमि को अवैध कब्जामुक्त कराने हेतु पिछले 22 साल से अनवरत् धरने पर बैठे हैं। इस सम्बन्ध में मुख्यमंत्री स्तर से जांच कमेटी की कार्यवाही लम्बित है। दूसरे 6 अक्टूबर 2017 को मास्टर विजय सिंह आंख का ऑपरेशन कराने जिला सरकारी अस्पताल की नेत्र विभाग गये थे, जहां 1000 रूपये रिश्वत न देने पर ऑपरेशन से इंकार कर गलत इंजैक्शन देकर लौेटा दिया था, शिकायत में साबित होने पर कार्यवाही के नाम पर लीपापोती की गई। इस दौरान मास्टर विजय सिंह नें बिजनौर पहुंच कर जिला अस्पताल नेत्रा विभाग के प्रभारी डा. एमके सैन द्वारा निजी चिकित्सालय संचालित करने का स्टिंग कर लिया गया। शिकायत साक्ष्य सहित जिसमें डा. एमके सैन के हॉस्पिटल का निजी प्रैेक्टिस किये जाने की वीडियो जिला प्रशासन बिजनौर व मुजफ्फरनगर को दिया। स्वास्थ्य विभाग द्वारा हठधर्मिता दिखाते हुए अपने अधिकारियांे, चिकित्सक व कर्मचारियों का ही पक्ष लिया गया। कार्यवाही के नाम पर लीपापोती कर दी गई। बिजनौर में अपर जिला अधिकारी प्रशासन, सीएमओ व एसडीएम स्तर पर जांच कमेटी गठित की गई, जिस पर कोई कार्यवाही नहीं की गयी। मास्टर विजय सिंह का कहना था कि डा. सैन शासनादेश का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन कर रहे हैं। दोनों प्रकरण शासन स्तर के हैं, जिसमें मुख्यमंत्राी द्वारा संज्ञान लिया जाना है। इसलिये वह मुख्यमंत्री मिलकर कार्यवाही की मांग करंेगे।

Share it
Top