बसों की व्यवस्था बनाने में रोडवेजकर्मियों को आया पसीना

बसों की व्यवस्था बनाने में रोडवेजकर्मियों को आया पसीना

मुजफ्फरनगर। दीवाली का त्योहार तो कल भैयादूज के साथ ही समाप्त हो गया। जैसा कि कल अनुमान लगाया जा रहा था कि भैयादूज के मौके पर रोडवेज की बसों में यात्रियों की भारी भीड़ होगी, हुआ तो ऐसा ही, लेकिन इसके मुकाबले रविवार को यात्रियों की संख्या कल की अपेक्षा पांच गुनी अधिक रही। जिसके चलते बसों के संचालन की व्यवस्था बनाने को लेकर रोडवेज के मुजफ्फरनगर डिपो के सहायक क्षे0 प्रबंधक सहित उनके अधिनस्थ कर्मचारियोें को पसीने आ गये। बसों की व्यवस्था करने का क्रम देर शाम तक जारी रहा। वहीं सहारनपुर क्षेत्र के क्षेत्राीय प्रबंधक ने डिपो की ओर से की जा रही व्यवस्था का संक्षिप्त निरीक्षण किया।
पांच दीपों के अंतिम त्योहार भैयादूज पर यात्रियों की होने वाली भारी भीड़ को देखते हुए व उन्हें किसी प्रकार की असुविधा न हो, इसके लिए उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम मुख्यालय से मिले निर्देशों के तहत मुजफ्फरनगर डिपो की ओर से उचित उचित व्यवस्था की गयी थी। जिसके चलते मुजफ्फरनगर डिपो के सहायक क्षे0 प्रबंधक के द्वारा अपने अधिनस्थ अधिकारियों व कर्मचारियों सहयोग से एक रणनीति बनायी गयी थी, ताकि यात्रियों को किसी प्रकार की परेशानी त्योहार पर न हो। इसके चलते सहायक क्षे0 प्रबंधक ने बसों के संचालन की कमान खुद अपने हाथों में ली थी। वहीें रविवार को भैयादूज के मुकाबले पांच गुणा यात्रियों की भीड़ नजर आयी। जिसे देखते हुए बसों की व्यवस्था बनाने में डिपो के सहायक क्षे0 प्रबंधक ब्रह्म प्रकाश अग्रवाल व स्टेशन प्रभारी/वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर सहित अन्य अधिकारियों व कर्मचारियों को पसीने आ गये। बसों की व्यवस्था बनाने का क्रम देर शाम तक जारी रहा। स्थिति यह आ गयी थी कि बाईपास व मेरठ-मुजफ्फरनगर की बसें जो कि सैटेलाईट बस स्टेैंड से संचालित हो रही थीं, को स्टेशन अर्थात डिपो पर आने को बाध्य होना पड़ा। इस बारे में वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर का कहना था कि त्योहार समाप्त होने केे उपरांत बाहर से आने वाले यात्राीगण अपने-अपने कार्यस्थल की ओर प्रस्थान करते हैं, इसके चलते पहले से ही आज के दिन भारी भीड़ का अनुमान लगाया गया था। उसी के हिसाब से डिपो के सहायक क्षेत्राीय प्रबंधक के निर्देशानुसार कार्य योजना को बनाया गया था। उसी के अनुसार कार्य किया गया, जो कि कारगर साबित हुआ। बसों की व्यवस्था बनाने में सहायक क्षेत्राीय प्रबंधक बीपी अग्रवाल, स्टेशन प्रभारी/वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर, कार्यवाहक वरिष्ठ स्टेशन प्रभारी/लेखाकार हर्ष कुमार, ओमेंद्र सिंह, सीनियर पफोरमैन सीपी वर्मा, याकूब अली, एआरएम कार्यालय सहायक जितेंद्र कुमार, सुभाष शर्मा आदि शामिल रहे।

Share it
Top