कालका पैसेंजर रद्द, यात्रियों की बढ़ी मुसीबतें

कालका पैसेंजर रद्द, यात्रियों की बढ़ी मुसीबतें

मुजफ्फरनगर। शनिवार को दीपों के पांच पर्वों की अंतिम कड़ी के रूप में भैयादूज का पर्व श्रद्धा, विश्वास व धूमधाम के साथ मनाया गया। इस मौके पर ट्रेनों में भी अपार भीड़ नजर आयी थी। स्थिति यह थी कि ट्रेनों में पैर रखने तक की जगह नहीं मिल पा रही थी। वहीं टिकटघर पर भी टिकट लेने को लेकर लंबी-लंबी लाइनें नजर आयीं थीं। वहीं रविवार को स्थिति इससे भी विकट नजर आयी। पूरे स्टेशन परिसर में जिधर भी नजर दौड़ाई जाती, बस यात्राी ही यात्राी नजर आ रहे थे। शनिवार की ही भांति रविवार को भी व्यवस्था बनाने को लेकर जीआरपी व आरपीएफ की मदद ली गयी। वहीं दूसरी ओर कालका के रद्द होने से भी पैसंेजर के यात्रियों को अधिक असुविधा का सामना करना पड़ा। वहीं दूसरी ओर ट्रेनों की विलंबता ने कोढ़ में खाज का कार्य किया।
रविवार को दीपावली, गौवर्धन व भैयादूज का पर्व समाप्त होने पर बाहर से घर आये लोगों का वापस जाने का सिलसिला प्रारंभ हो गया। जिसके चलते ट्रेनों में भारी भीड़ नजर आयी। यह भीड़ शनिवार की अपेक्षा अधिक रही। स्टेशन परिसर में तीनों प्लेटफार्म सहित प्रतीक्षालय सहित टिकटघर पर यात्राी ही यात्राी नजर आये। यात्रियों को किसी प्रकार की असुविधा न हो, इसके चलते एक बार पिफर शनिवार ही की भांति जीआरपी व आरपीएफ की मदद ली गयी। वहीं दूसरी ओर पैसंेजर ट्रेनों की श्रंखला में मेरठ-दिल्ली की ओर दोपहर को जाने वाली दो गाड़ियोें में से एक कालका रद्द कर दी गयी तथा दूसरी ऋषिकेश-दिल्ली पैसंेजर अपने तय समय से तीन घंटे आठ मिनट की विलंबता संे संचालित हुई। जिसके चलते स्टेशन पर यात्राी ही यात्राी नजर आये। ऋषिकेश पैसंेजर में स्थिति यह हो गयी कि यात्रियों में हवा भी मुश्किल से पास हो रही थी। ट्रेेेेन में चढ़ने को लेकर व टिकट लेने को लेकर लोगों में बहसबाजी भी देखने को मिली। इसके अलावा विलंबता से संचालित होने वाली ट्रेनों में गाड़ी संख्या 14512 नौचंदी एक्सप्रेस दो घंटे, 14681 सुपर चालीस मिनट, 64540 तीस मिनट, 19031 अहमदाबाद-हरिद्वार एक्सप्रेस तीस मिनट, 12017 शताब्दी एक घंटा 25 मिनट, 64561 इकतीस मिनट शामिल रही। वहीं एक पैसेंजर गाड़ी संख्या 54541 मेरठ-अंबाला का संचालन किन्हीं कारणवश सहारनपुर तक ही कर दिया गया।

Share it
Top