मुजफ्फरनगर: पुरकाजी में दो परिवारों को बंधक बनाकर लाखों की डकैती

पुरकाजी। पुरकाजी में रात्रि के समय दो परिवार को बदमाशो ने बंधक बनाकर आधा दर्जन बदमाशो ने डकैती की घटना को अंजाम दिया है। बदमाश पीड़ित के घर से करीब 4 लाख रूपए की नगदी व जेवरात लूटकर फरार हो गए। पुलिस ने सूचना पर पहुंच कर पीड़ित परिवार के लोगो से मामले की जानकारी लेती रही और बदमाश जंगल के रास्ते से बेखैफ होकर चले गए। इससे पहले ठीक माह पूर्व 15 सितम्बर को बदमाशो ने पत्रकार इकरार फरीदी के घर में भी परिवार के लोगो को बंधक बनाकर 15 लाख रूपए की डकैती डाली थी। पुलिस उस डकैती को भी खोलने में असफल साबित हुई है। कस्बे में पुलिस की कार्य प्रणाली से रोष व्याप्त है। मसला है कि क्या पुलिस इन डकैती की घटना को खोल पाएगी। या फिर पुलिस इस घटना को संदिग्ध मान कर चल रही है।
पुरकाजी के मौहल्ला मुस्तफा कालौनी निवासी अशरफ पुत्र सददीक, शाहनजर पुत्र कयूम का घर बराबर-बराबर है। दोनो परिवार के सदस्य अपने-अपने घर के अंदर सो रहे थे। रविवार की मध्य रात्रि लगभग 1 बजें आधा दर्जन सशस्त्र बदमाश मजदूर शाहनजर के घर के अंदर घुस गए और हथियारो की नोक पर पूरे परिवार के सदस्यों को बंधक बनाकर घंटो लूटपाट की और शाहनजर के घर से बदमाशो ने 75 हजार रूपए और महिलाओं के सोने चांदी के जेवरात लूट लिए। उसके बाद बदमाश शाहनजर के हाथ बांधकर अशरफ के घर पर पहुंचे और अशरफ समेत पूरे परिवार को बंधक बनाकर घंटो लूटपाट की। अशरफ पशुओं का व्यापार करता है और घर में एक लाख दस हजार रूपए रखे हुए थे। बदमाशो ने रूपऐ और सोने-चांदी के जेवरात को लूट ले गए। इससे पहले पूरे परिवार के सदस्यों को कमरे में बंद कर गए थे। पशु व्यापारी का परिवार किसी प्रकार से बंधनमुक्त हुआ और तुरंत पुलिस को सूचना पर मौके पर पहुंची ओर पीड़ित परिवार के लोगों से मामले की जानकारी ली। पीडितों ने अज्ञात बदमाशो के खिलाफ तहरीर दी है। पीड़ित परिवार के लोगो का कहना है कि अगर पुलिस समय रहते बदमाशो का जंगल में पीछा करती तो शायद पुलिस के हाथ बदमाश लग सकते थे। लेकिन पुलिस ने रात्रि में जंगल में जाना उचित नही समझा और पुलिस पीड़ित परिवार के लोगो से पुछताछ में उलझी रही। वैसा ही मामला 15 सितम्बर की रात्रि का है, जब इकरार फरीदी के घर पर डकैती पड़ी थी तब भी पुलिस पीडितो से पुछताछ में उलझी रही और बदमाशो की जंगल में जाकर तलाश नही की थी। शायद पुलिस के हाथ कुछ सुराग लग जाते।

Share it
Top