छात्राओं में हुई मारपीट के मामले ने तूल पकडा...दलितों ने जनता इंटर कॉलेज बंद कराकर किया हंगामा

मुजफ्फरनगर। एक ही कक्षा में पढने वाली दो छात्राओं में मामूली बात को लेकर हुई मारपीट के मामले ने तूल पकड लिया है। दलित वर्ग के लोगों ने जनता इंटर कॉलेज बंद कराकर गेट के बाहर धरना देकर हंगामा किया और दबंगों पर उत्पीडन का आरोप लगाकर उच्चाधिकारियों से भी शिकायत की। इस मामले को लेकर बडी संख्या में दलित समाज के लोग कचहरी पहुंचे और डीएम-एसएसपी से भी शिकायत की। पुलिस ने दलित पक्ष की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।
जानकारी के अनुसार नई मण्डी कोतवाली क्षेत्र के गांव पचैण्डा कलां निवासी नरेन्द्र सिंह की पुत्री प्राची व दलित वर्ग के आजाद सिंह की पुत्री प्रगति जनता इंटर कॉलेज मुस्तफाबाद पचैण्डा में इंटर की छात्रा है। साथ पढने वाली दोनों छात्राओं में कई दिन पूर्व किसी बात को लेकर कहासुनी हो गयी थी, तब प्रधानाचार्य डॉ. विनोद कुमार ने दोनों के परिजनों को बुलाकर कार्यवाही की चेतावनी दी थी, जिस पर परिजनों के सामने ही दोनों छात्राओं ने माफी मांग ली थी और आगे से झगडा न करने की बात भी कही थी, लेकिन गत दिवस छात्राओं में मारपीट हुई, जिसमें दलित वर्ग की छात्रा प्रगति का सिर फट गया था। दलितों ने आरोप लगाया कि नरेन्द्र सिंह की पुत्री प्राची ने डंडा मारकर प्रगति का सिर पफोडा है। इस बात को लेकर गत दिवस ही छात्रा के परिजन नई मण्डी थाने में तहरीर देकर गये थे, लेकिन जब पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की, तो आज सुबह सैंकडों दलित महिला-पुरूषों ने जनता इंटर कॉलेज पहुंचकर हंगामा कर दिया और कॉलेज बंद कराते हुए गेट पर ही धरना देना शुरू कर दिया। सूचना पर नई मण्डी पुलिस मौके पर पहुंची और हंगामा कर रहे लोगों को समझा-बुझाकर शान्त करने का प्रयास किया। इस दौरान गांव के जिम्मेदार लोग भी मौके पर पहुंचे, लेकिन हंगामा कर रहे लोगों ने किसी की नहीं सुनी। इस दौरान उन्होंने प्रधानाचार्य डॉ. विनोद कुमार के साथ भी अभद्रता की। इसके बाद ट्रेक्टर-ट्रॉली में सवार होकर दलित वर्ग के लोग कचहरी पहंुच गये और वहां भी हंगामा खडा कर दिया। डीएम व एसएसपी से भी कार्यवाही की मांग की गई। मौके पर पुलिस पहुंची और कार्यवाही का आश्वासन देकर सभी को नई मण्डी कोतवाली ले आयी। अजय कुमार निवासी पचैण्डा कलां की तहरीर पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। इस दौरान आजाद सिंह, नरेश भारती, कलीराम, आत्माराम, ब्रहम सिंह, विद्यानन्द, भूषण, विजयपाल, बाबूराम, सहेन्द्र, प्रेम, सूरजबाला, मदन सिंह, सुखवीर, रामदास, अजय कुमार समेत सैंकडों महिला-पुरूष मौजूद रहे।

Share it
Top