मन्दिर तोड़ने की झूठी सूचना से मचा हड़कम्प

मन्दिर तोड़ने की झूठी सूचना से मचा हड़कम्प

मुजफ्फरनगर। कांधला थाना क्षेत्र के गांव सलेमपुर में ग्राम समाज की भूमि पर खाई लगाने पहुंची जेसीबी मशीन का ग्रामीणों ने विरोध करते हुए अधिकारियों को मंदिर तोड़ने की झूठी सूचना दी। मंदिर तोड़ने की सूचना से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। सूचना पर थाना प्रभारी निरीक्षक भारी पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे ओर मामले की जांच की, तो मंदिर तोड़ने की सूचना झूठी निकली। कांधला देहात के मजरा सलेमपुर में तालाब ओर ग्राम पंचायत की लगभग 42 बीघा जमीन स्थित है। उक्त जमीन पर गांव के ही दर्जनों लोगों ने कब्जा कर रखा है। मामले की शिकायत ग्राम प्रधानपति जीशान जंग के द्वारा कई दिन पूर्व जिलाधिकारी इंद्र विक्रम को शिकायत करते हुए ग्राम पंचायत की भूमि को कब्जा मुक्त कराने की मांग की थी। जिलाधिकारी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए उप जिलाधिकारी कैराना दुष्यंत कुमार मौर्य को ग्राम पंचायत की भूमि को कब्जा मुक्त कराने के आदेश दिए थे। उप जिलाधिकारी के आदेश पर गुरूवार को लेखपाल विजय कुमार, युसूफ खान ने भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर जमीन को कब्जा मुक्त कराते हुए निशान लगा दिए थे। शुक्रवार को ग्राम प्रधानपति के द्वारा राजस्व विभाग की टीम के द्वारा लगाए गए निशान पर खाई खोदने के लिए जेसीबी मशीन लेकर पहुंचे, तो ग्रामीणों ने हंगामा करते हुए खाई नहीं खोदने दी। ग्रामीणों ने डायल 100 पर सूचना दी कि ग्राम प्रधान ने जेसीबी मशीन से मंदिर को तुड़वा दिया है। मंदिर तोड़ने की सूचना से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। सूचना पर थाना प्रभारी निरीक्षक ओपी चौधरी भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे ओर मामले की जांच की, तो मंदिर तोड़ने की सूचना झूठी पाई गई। मंदिर तोड़ने की सूचना देने वाला व्यक्ति मौके से फरार हो गया। मंदिर टूटने की सूचना झूठी निकलने पर पुलिस ने राहत की सांस ली। मामले में थाना प्रभारी निरीक्षक ओपी चौधरी का कहना है कि गांव के ही एक व्यक्ति के द्वारा मंदिर तोड़ने की सूचना पुलिस को दी गई थी, जो झूठी निकली है। झूठी सूचना देने वाले व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

Share it
Top