समय सीमा के अन्तर्गत शौचालय निर्माण का कार्य पूर्ण करायेः डीएम

समय सीमा के अन्तर्गत शौचालय निर्माण का कार्य पूर्ण करायेः डीएम

मुजफ्फरनगर। प्रभारी डीएम अंकित कुमार अग्रवाल ने कहा कि 30 अक्टूबर तक निर्माणाध्ीन शौचालय का निर्माण पूरा कराया जाये व जनपद को खुले से शौचमुक्त किया जाये। उन्होंने कहा कि पात्रा लाभार्थियों को प्रथम किस्त का शौचालय निर्माण का पैसा 6 हजार रूपये की दर से भेजा जा चुका है। उन्होंने कहा कि निर्धरित समय सीमा के पूर्व अपने लक्ष्य को पूर्ण करना है। जिला स्तरीय अधिकारियों की टीम द्वारा सत्यापन का कार्य भी कराया जा रहा है।
प्रभारी जिलाधिकारी आज जिला पंचायत सभागार में जनपद की सभी ग्राम पंचायतों को ओडीएफ करने के सम्बन्ध् में ग्राम चैम्पियनों तथा स्वच्छतागृहियों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिये कि एडीओ पंचायत प्रत्येक ब्लॉक में स्वच्छतागृहियों की ट्रेनिंग कराये। उन्होंने कहा कि डोर टू डोर सर्वे में पात्रा सभी परिवारों को शौचालय निर्माण के लिए ध्नराशि दी जायेगी। उन्होंने कहा कि जिस ग्राम मंे ग्राम चैम्पियनों की संख्या कम है, वहां पर एडीओ पंचायत संख्या बढायें और शौचालय निर्माण की प्रगति दिखायें। प्रभारी जिलाध्किारी ने कहा कि प्रत्येक ग्राम चैम्पियन को ग्राम आवंटित किये गये है। उन्होेंने कहा कि स्वच्छतागृहियों की टीम तैयार कर ले। उन्होंने कहा कि जिन ग्राम चैम्पियनों का भुगतान नहीं किया गया है, उनका भुगतान करना सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने विकास खण्डवार शौचालय निर्माण की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंनेे कहा कि शौचालय निर्धरित डिजाईन के अनुसार बनाये जाने सुनिश्चित किये जाये। उन्होंने कहा कि जो भी शौचालय बनाये जाये वे मानकों के अनुसार हो और पारदर्शी ढंग से कार्य कराया जाये। उन्होंने कहा कि अपात्रा व्यक्ति को लाभान्वित किसी भी दशा में न होने दिया जाये। उन्होंने कहा कि यदि अपात्र को लाभान्वित करने की कोई शिकायत प्राप्त होगी, तो जांच कराकर कडी कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। प्रभारी जिलाधिकारी ने बताया कि हमारा लक्ष्य जनपद की सभी ग्राम पंचायतों को समय सीमा के अन्तर्गत ओडीएफ कराना है। उन्होंने कहा कि यदि घर में शौचालय नहीं होगा, तो हमारी बहन, बेटियों को शौच के लिए खुले में जाना पडेगा। उन्होंने कहा कि लोगों को जागरूक करे कि अपने घर में जल्द से जल्द शौचालय बनवायें और उसका नियमित उपयोग भी करें। उन्होंने बताया कि खुले में शौच करने से बीमारियां बढती है और आय का अध्किांश भाग बीमारी के उपचार में चला जाता है। उन्होंने कहा कि जो पात्र व्यक्ति शौचालय निर्माण करना जानता है, वह शौचालय निर्माण कर ले। उन्होंने कहा कि शौचालय निर्माण हेतु अनुमन्य ध्नराशि लाभार्थी के खाते में भेज दी जायेगी।
जिलाधिकारी ने बताया कि लाभार्थी को शौचालय निर्माण के लिए 12 हजार की ध्नराशि शौचालय निर्माण हेतु उपलब्ध् करायी जाती है, जोकि दो किस्तों में लाभार्थी के खातें में भेजी जाती है। जिलाध्किारी ने बताया कि शौचालय निर्माण एवं निर्माण की गुणवत्ता का तृतीय पक्ष सत्यापन भी कराया जायेगा। जिलाधिकारी ने गांव का कूडा, साफ-सफाई, नालों की सफाई एवं तालाबों की सफाई भी स्वच्छ भारत मिशन से जोडे जाने के निर्देश जिला पंचायत राज अधिकारीरी को दिये। इस अवसर पर वकील अहमद, तकनीकी विशेषज्ञ वर्ल्ड बैंक द्वारा शौचालय निर्माण की समपूर्ण प्रक्रिया व उससे जुडी जानकारी को आडियों व वीडियो क्लिपिंग के द्वारा प्रदर्शित कर दिखाया गया है। इस अवसर पर जिला पंचायत राज अधिकारी पवन कुमार, सभी बीडीओ, एडीओ पंचायत, ग्राम सचिव, चैम्पियन, आदि मौजूद रहे।

Share it
Top