चेयरमैनी चुनाव के योद्धा मैदान में कूदने को तैयार

चेयरमैनी चुनाव के योद्धा मैदान में कूदने को तैयार

चरथावल। राज्य सरकार द्वारा हाईकोर्ट में हलफनामा देकर नवम्बर में निकाय चुनाव कराने के साथ-साथ ही नगर निकायों में चुनाव की रस्साकशी तेज हो चली है। नगर निकायों में चुनाव में किस्मत आजमाने वाले प्रत्याशियों ने जनसम्पर्क अभियान तेज कर दिया है, वहीं इसी कड़ी में वार्ड सभासदी का चुनाव लड़ने के भावी प्रत्याशियों ने भी वार्ड आरक्षण फाइनल होने के कारण अपनी तैयारी शुरू कर दी है। चरथावल नगर पंचायत के चुनाव के पिछले इतिहास को देखा जाए, तो हमे पता चलेगा कि पिछले चुनाव में जहां 3200 वोटों के करीब वोट लेकर श्रीमति बीना त्यागी नगर पंचायत चरथावल की अध्यक्ष बनी थी, वहीं उनकी मुख्य विरोधी श्रीमती मीनाक्षी सिंघल को 2500 के करीब वोट मिली थी, वहीं अबकी बार नगर पंचायत जहां पूरी सुर्खियों में रही। नगर सीमा से बाहर विकास कार्यों को लेकर नगर पंचायत चरथावल जहां पूरे कार्यकाल में चर्चाओं में रही यहां तक की शासन ने नगर पंचायत अध्यक्ष बीना त्यागी के अधिकार तक सीज कर दिए थे, हालांकि बाद में शासन ने क्लीन चिट भी दे दी थी। चरथावल में जहां त्यागी अंसारी रंगरेज कश्यप, बाल्मीकि, वैश्य, दलित, ब्राहमण समाज के मतदाता है, वहीं अबकी बार चुनाव में जहां निवर्तमान चेयरमैन पति सतेन्द्र त्यागी, पूर्व चेयरमैन सुधीर सिंघल, फतेहदीन, सदाकत आदि लोग चुनाव के मैदान में उतरने को तैयार है और अपने कुर्तों पर कल्पफ लगाकर तैयार हो चुके हेै, जबकि पिछले चुनाव में जहां चेयरमैन पति को त्यागी समाज का एक तरपफा वोट मिला था, जिससे उनकी जीत की राह आसान हो चली थी, लेकिन अबकी बार त्यागी समाज जहां सुधीर सिंहल के साथ भी खड़ा नजर आ रहा है, वहीं पूर्व चेयरमैन पति मास्टर इस्लाम व चौधरी फतेहदीन का अबकी बार गठबन्धन होने के कारण त्यागी समाज का एक धड़ा इनके साथ भी खड़ा नजर आ रहा है, जो चेयरमैन पति की जीत को मुश्किल कर रहा है, वहीं दूसरी और वैश्य समाज से दूसरा प्रत्याशी न आने के कारण व पिछड़ी जाति का झुकाव अबकी बार सुधीर सिंहल की तरफ होने के कारण उनकी स्थिति को चुनाव में मजबूत कर रहा है। चरथावल का चेयरमैन कौन होगा? यह तो भविष्य के गर्भ में है, लेकिन पिछडी जाति व वैश्य समाज से दूसरा प्रत्याशी नहीं होने के कारण विरोधी भी सुधीर सिंहल की स्थिति मजबूत मानकर चल रहे है, लेकिन मास्टर इस्लाम व फतेहदीन का गठबन्धन होने के कारण चुनाव रेस में रणनीतिकार सीधा-सीधा चुनाव फतेहदीन व सुधीर सिंहल में मानने लगे है, चरथावल का चेयरमैन कौन होगा, यह तो भविष्य के गर्भ में है, लेकिन चुनाव अब फतेहदीन व सुधीर सिंहल के बीच होना तय मान रहे है, क्योंकि पिछले चुनाव में मास्टर इस्लाम को 1870 व फतेहदीन को 1790 के करीब वोट मिले थे, अबकी बार दोनों का गठबन्धन से चुनाव लड़ने के कारण यह वोट डबल होने के साथ इन वोटरों में बढ़ोत्तरी भी सम्भव हो चली है, जो विरोधियों को मात देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है, वहीं वैश्य समाज से दूसरा प्रत्याशी न आने के कारण व पिछड़ी बिरादरी की वोट सुधीर के पक्ष में जाने से फतेहदीन व सुधीर के बीच रोचक मुकाबला होने के आसार नजर आने लगे है, चाय की दुकानों चौराहों पर अब बस निकाय चुनाव की जनता चर्चा करती नजर आ रही है, सभी की जुबान पर बस निकाय चुनाव का ही जिक्र हेै, जहां जनता मास्टर इस्लाम व फतेहदीन का गठबन्धन होने से पहले चुनाव में मुकाबला सुधीर व सतेंद्र के बीच मान रही थी, वहीं अब जनता चुनाव को फतेहदीन व सुधीर के बीच होना मानकर चल रही है।

Share it
Top