बलसाड मेल फिर हो गयी एसीपी की शिकार...आरपीएफ ने एक छात्र पकडा, जनपद के स्टेशन पर नहीं है स्टोपेज

बलसाड मेल फिर हो गयी एसीपी की शिकार...आरपीएफ ने एक छात्र पकडा, जनपद के स्टेशन पर नहीं है स्टोपेज

मुजफ्फरनगर। बुधवार को एक युवकं को बिना स्टोपेज की ट्रेन (बलसाड)में सवारी करना भारी पड़ गया। उसे एसीपी करने पर आरपीएफ के हाथों पड़ना पड़ा। जिसे थाने लाकर इस विषय मंे कार्यवाही की प्रक्रिया की गयी। इसके साथ ही एक अन्य युवक को भी संदेह के आधार पकड़ा गया। जिससे पूछताछ की गयी। बलसाड से बनकर चलने वाली गाड़ी संख्या 12911 बलसाड मेल मुजफ्फरनगर स्टेशन पर एसीपी का शिकार हो गयी। यह ट्रेन एक नहीं कुछ ही पलों में दो बार एसीपी की शिकार हो गयी। इस गाड़ी का जनपद मुजफ्फरनगर में स्टोपेज अर्थात ठहराव नहीं है। जिसके चलते दोपहर दो बजकर 17 मिनट पर इसके आने की रनथ्रू (बिना रूके) जाने की घोषणा पूछताछ केंद्र पर बैठे एक कर्मचारी कर्मचारी द्वारा की गयी। जैसे ही ट्रेन ने प्लेटपफार्म को छुआ, ठीक उसी समय वह एसीपी (इमरजैंसी चेन पुलिंग) का शिकार हो गयी। इसके बाद इसे पिफर से चलाया गया, लेकिन जैसे ही यह ट्रेन प्लेटफार्म को छोड़ने वाली थी, यह एसीपी की शिकार हो गयी। अचानक ट्रेन के पिफर से रूकने पर स्टेशन पर बैठे यात्रियों में खलबली मच गयी। पूछताछ करने पर पता चला कि बलसाड मेल की किसी यात्राी ने चेन पुलिंग कर दी। जिस पर स्टेशन पर उपस्थित सहायक टिकट निरीक्षक गोपाल कृष्ण चौधरी व पवन कुमार आरपीएफ के एएसआई अनिल कुमार सहित ट्रेन के पास पहुंचे तथा दो युवकों को हिरासत में लिया। आरपीएफ के एएसआई अनिल कुमार का कहना था कि पूछताछ के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।
गौरतलब है कि एसीपी करने पर पकड़े जाने पर जुर्माना व सजा का प्रावधान है। बलसाड से बनकर हरिद्वार को जाने वाली इस मेल का जनपद मुजफ्फरनगर में ठहराव नहीं है। इसके ठहराव को लेकर कई बार रेल मंत्राी से नगरवासियों द्वारा अपील भी की गयी है। इसके बाद भी यह अपील स्वीकार नहीं की गयी है। बलसाड के एसीपी के शिकार होने की यह कोई पहली घटना नहीं है। यह कई बार इस प्रकार की घटना का शिकार हो चुकी है।

Share it
Top