स्वच्छता अभियान की परीक्षा में एआरएम हुए अनुत्तीर्ण

स्वच्छता अभियान की परीक्षा में एआरएम हुए अनुत्तीर्ण

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की मुजफ्फरनगर डिपो पर चल रहे स्वच्छता पखवाडे़ की प्रमुख सचिव परिवहन द्वारा ली गयी निरीक्षण रूपी परीक्षा में डिपो के सहायक क्षेत्राीय प्रबंधक अनुत्तीर्ण हो गये। प्रमुख सचिव परिवहन/नोडल अधिकारी जनपद ने अपने निरीक्षण के दौरान परिवहन अधिकारियों को कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए स्वच्छता पर और ध्यान केंद्रित करने को कहा। जिस पर क्षे0 प्रबंधक द्वारा बजट की समस्या को बताया गया। जिस पर नोडल अधिकारी ने उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया। इसके साथ ही नोडल अधिकारी ने डिपो क अन्य विभागों का भी गहनता से निरीक्षण किया।
प्रधानमंत्राी के स्वच्छता अभियान के तहत उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम प्रबंध निदेशक पी. गुरूप्रसाद के द्वारा हाल ही में समस्त क्षेत्राीय प्रबंधकों, सेवा प्रबंधकों व समस्त सहायक क्षेत्राीय प्रबंधकों को निर्देशित किया था। जिसके चलते 17 सितंबर से दो अक्टूबर तक स्वच्छता पखवाडे़ को चलाया जाना है। जिसका शुभारंभ मुजफ्फरनगर डिपो के सहायक क्षे0 प्रबंधक बीपी अग्रवाल द्वारा किया गया था। उन्होंने इसकी शुरूआत खुद निगम की बस को धोकर की थी। साथ ही उन्होंने अपने अधिनस्थ कर्मचारियों व अधिकारियों से इस अभियान में कंधे से कंधा मिलाकर चलने का आह्वान किया था। इसी स्वच्छता पखवाड़े का निरीक्षण करने शुक्रवार को अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान जनपद की नोडल अधिकारी व प्रमुख सचिव परिवहन श्रीमती आराधना शुक्ला दोपहर 12.20 बजे मुजफ्फरनगर डिपो पर पहुंची। जहंा पर उनकी अगुवानी क्षे0 प्रबंधक सहारनपुर मनोज पुंडीर व सहायक क्षे0 प्रबंधक बीपी अग्रवाल व वाहन आवंटन प्रभारी राजकुमार तोमर द्वारा की गयी। सर्वप्रथम श्रीमती आराधना शुक्ला वर्क्सशॉप गयीं। जहां पर उन्होंने ऑटोमेटिक वाशिंग प्लांट का निरीक्षण किया। इसके बाद पास ही बने टॉयलेट व बाथरूम का निरीक्षण किया। वहां पर कमी मिलने पर एआरएम को स्वच्छता के निर्देश दिये। इसके बाद बस स्टैंड आने पर वहंा पर कीचड़ होने पर नाराजगी जताई तथा इसमें सुधर को कहा। इसके बाद वह एमएसटी रूम में गयीं और वहां पर संबंधित जानकारी हासिल की। इसके बाद उन्होंने अनुबंधित बसों के ड्यूटी कार्यालय का निरीक्षण किया और प्रभारी अमरीश त्यागी से संबंधित जानकारी हासिल की। इसके बाद उन्होंने कैश पटल का निरीक्षण किया। जहां पर छतों पर जाले व बिजली के तारों को लेकर उन्होंने कड़ी नाराजगी व्यक्त की तथा इसमें सुधार की बात कही। इसके बाद उन्होंने यूपी रोडवेज इम्पलाइज यूनियन के कार्यालय का बाहर से ही निरीक्षण किया तथा यह भी पूछा कि यहंा पर कितनी यूनियन हैं। जिस पर रोडवेज अधिकारियों द्वारा संबंधित यूनियनों के विषय मंे संक्षिप्त जानकारी दी गयी। इसके बाद उन्होंने टिकट भंडार कक्ष का निरीक्षण किया। बाद में महिला टॉयलेट का निरीक्षण करते समय वहां पर भी मिली गंदगी को लेकर कड़ी नाराजगी व्यक्त की तथा सुधार की बात की। इसके साथ ही उन्होंने डिपो पर साफ-सफाई के साथ ही पुताई आदि की बात भी कही। जिस पर क्षे0 प्रबंधक सहारनपुर मनोज पुंडीर द्वारा बताया गया कि इसके लिए शासन स्तर पर पांच लाख के बजट की मांग की गयी थी, लेकिन स्वीकृति न मिलने के चलते यह कार्य नहीं हो सका। जिस पर प्रमुख सचिव ने इस ओर ध्यान देने का आश्वासन दिया।
इसके बाद प्रमुख सचिव परिवहन पुरबालियान के लिए निकल गयीं। उनके जाने के बाद रोडवेज के अधिकारियों व कर्मचारियों ने राहत की संास ली। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी जीएस प्रियदर्शी, मुख्य विकास अधिकारी अंकित कुमार अग्रवाल, आरएम मनोज पुंडीर, एसएम श्याम बाबू, एआरएम बीपी अग्रवाल, एवीआई राजकुमार तोमर, टीएस बाबूराम, एटीआई उपंेद्र शर्मा, सुभाषचंद, पफोरमैन विनोद मलिक, वीरेंद्र कुमार, सुधीर कुमार व अमरीश त्यागी आदि उपस्थित रहे।

Share it
Top