जेई के फर्जी सूचना देने पर भड़के सांसद हुकुम सिंह, परिणाम भुगतने की चेतावनी

जेई के फर्जी सूचना देने पर भड़के सांसद हुकुम सिंह, परिणाम भुगतने की चेतावनी

शामली। पंडित दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति विद्युतीकरण योजना के अन्तर्गत ग्रामों व मजरों में हुए कार्य की जानकारी मांगे जाने के बाद विद्युत विभाग के एसई द्वारा फर्जी सूचना दिए जाने के बाद कैराना सांसद भडक उठे और उन्होने अधिकारियों पर जन प्रतिनिधियों को गुमराह करने तथा सरकार को बदनाम करने का आरोप लगाया है। उन्होने जनपद में विकास कार्य न होने पर अधिकारियों को परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। गुरूवार को कैराना सांसद हुकुम सिंह ने शामली कलक्ट्रेट सभागार में विद्युत विभाग के अधिकारियों की बैठक बुलाई थी। बैठक को संबोधित करते हुए उन्होने कहा कि विद्युत विभाग से मांगी गई सूचना के बाद विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियंता एके सिंह ने गत 17 सितंबर को अपने पत्र में क्रम संख्या 1 से 157 तक उन ग्रामीणों को दर्शाया गया है, जिसमें आरजीजीवीवाई 11वी प्लान के अन्तर्गत उर्जीकरण के संबंध में पूर्ण कार्य दर्शाया गया है, लेकिन उन्होने जब स्वयं ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर देखा और ग्रामीणों से वार्ता की तो निराशजनक स्थिति सामने आई है। उन्होने कहा कि 8० प्रतिशत से अधिक ग्रामों की दी गई रिपोर्ट बिलकुल तथ्यहीन है। उन्होने कहा कि यदि सरकार इस रिपोर्ट को मानकर चले कि विद्युतीकरण हो चुका है तो सरकार से जनता का विश्वास पूरी तरह खत्म हो जायेगा। उन्होने कहा कि विद्युत विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों ने रिपोर्ट को बनाते समय अपने दायित्व का निर्वाह नही किया है, जिसमें जन प्रतिनिधियों के साथ साथ सरकार को भी भ्रमित करने का कार्य किया गया है। उन्होने कहा कि दूसरी रिपोर्ट 181 ग्रामों की है, जिसमें दर्शाया गया है कि उक्त ग्रामों में आरजीजीवीवाई 11वी योजना के अन्तर्गत कार्य प्रारंभ नही किए गये और वर्ततान में 2०17 चल रहा है, लेकिन अधिकारी अक्टूबर 2०16 तक कार्य पूर्ण कर लिया जायेगा कर रहे है, जोकि औचित्यपूर्ण नही है। उन्होने कहा कि ऊन ब्लॉक के मजरा प्रधाननगर में विद्युत विभाग के कार्य पूर्ण करना दर्शाया है, लेकिन शर्म की बात है कि पिछले दो वर्षो से गांव में खंबे खडे है, लेकिन उन पर तार नही है। उन्होने कहा कि न जाने कितने गांव ऐसे है जहां ट्रास्फार्मर है तो खंबे नही, खंबे है तो तार नही और तार है तो बिजली नही। उन्होने विद्युत विभाग के एसई को कडी फटकार लगाते हुए कहा कि केन्द्र सरकार की योजनाओं को मजाक बनाकर रख दिया है। अधिकारियों द्वारा जनप्रतिनिधियों को धोखे में रखा जा रहा है। अधिकारी अपने हस्ताक्षर कर जनप्रतिनिधियों द्वारा मांगी जा रही सूचनाओं को फर्जी रूप से दर्शाया जा रहा है। बीजेपी सरकार ने पंडित दीप दयान उपाध्याय विद्युतीकरण योजना को लेकर सभी अधिकारियों को सलाह दी थी। जनपद में तीन एक्शन, एसडीओ व जेई तैनात है, लेकिन उसके बावजूद भी विद्युत विभाग द्वारा किया नही किया जा रहा है और जनता को धोखा दिया जा रहा है। उन्होने कहा कि शर्म के कारण जनप्रतिनिधि ग्रामीणों के बीच जाने को तैयार नही है। उन्होने कहा कि अगर विभाग ने उक्त कार्य किया तो धरातल पर क्यो नही है और अगर कार्य अधूरा है तो पूर्ण क्यो दर्शाया गया। उन्होने कहा कि अगर कार्य पूरा नही किया गया तो योजना का करोडो रूपया कहा गया। उन्होने कहा कि इसमें व्यवस्था की बात है, जिसको विद्युत विभाग पूर्ण रूप से चोपट कर रहा है। उन्होने जनपद में विकास कार्य न होने पर अधिकारियों को परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। इस अवसर पर जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह, विधायक शामली तेजेन्द्र निर्वाल सहित विद्युत विभाग के सभी अधिकारी मौजूद रहे।

Share it
Top