मुजफ्फरनगर: अजगर ने निगला नील गाय का बच्चा

भोपा। गांव टन्ढेडा के जंगल में अजगर के द्वारा नील गाय के बच्चे को निगल लिया। ईख में पानी चलाने गये किसान राहुल ने अजगर को देखकर शोर मचा दिया। जिस पर खेतों में काम कर रहे ग्रामीणों की भारी भीड जमा हो गयी। सूचना मिलने पर मौके पर आयी वन विभाग की टीम ने ग्रामीणों की मदद से कडी मशक्कत कर नील गाय के बच्चे को अजगर के जबडे से निकाला, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। यह मामला क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।
ककरौली थाने के ग्राम टन्ढेडा में बेहडा सादात मार्ग पर ग्राम प्रधान सुरेश पहलवान का गन्ने का खेत है। पडौसी किसान यशपाल चौधरी का पुत्र राहुल सुबह अपने खेतों में पानी चलाने के लिए गया। रास्ते के किनारे प्रधान के खेत में विशालकाय अजगर को देखकर उसने घबराकर शोर मचा दिया, जिससे खेतों में काम कर रहे अन्य किसान भी भाग कर मौके पहुंच गये। गांव में सूचना कर वन विभाग की टीम को मौके पर बुलवाया गया, जिसमें मीरापुर वन रेंज कार्यालय से आए डिप्टी मोहन कुमार, गयूर अली, शेखावत, भोपा सिंह आदि की टीम ने ग्रामीणों की मदद से दो घंटे की कडी मशक्कत कर नील गाय के बच्चे को अजगर के जबडे से बाहर निकाला, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। मरे हुए नील गाय के बच्चे को वन विभाग की टीम ने जमीन में गहरा गड्ढा खुदवाकर दबा दिया और करीब 10 फीट के अजगर को पकडकर अपने साथ ले गये। इस मौके पर प्रधान पुत्र धर्मेन्द्र, संजीव, हीरामल, विपिन, राहुल, मनोज, मोनू, रोहित आदि सैंकडों लोग मौके पर उपस्थित रहे। मीरापुर वन रेंज के एसके बंसल ने बताया कि गंगा खादर से सटे गांवों में अक्सर वन्यजीव आ जाते हैं, तो इस तरह के मामले सामने आते हैं। पकडे गये अजगर को वन्यजीव अभ्यारण्य हस्तिनापुर में छोड दिया गया है। वन विभाग की टीम वन्य जीवों की हलचल पर नजर बनाए हुए है।

Share it
Top