अनुपस्थित अधिकारियों का एक दिन का वेतन काटने का आदेश

अनुपस्थित अधिकारियों का एक दिन का वेतन काटने का आदेश

मुजफ्फरनगर/बुढाना। प्रभारी जिलाधिकारी अंकित कुमार अग्रवाल ने एसडीएम व तहसीलदार को निर्देश दिये कि भूमि सम्बन्धी विवादों को राजस्व एवं पुलिस की संयुक्त टीम गठित कर शिकायतों का निस्तारण करना सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने कहा कि अधिकांश शिकायतें ग्राम समाज की भूमि, नाली, चकरोड, तालाब एवं चरागाह पर अवैध कब्जे की प्राप्त हेाती है। उन्होंने कहा कि ऐसी शिकायतों को गम्भीरता से लिया जाये। उन्होंने कहा कि अवैध कब्जे अथवा अतिक्रमण न होने पाये। प्रभारी जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि ग्रामीणों का शिकायत पत्र प्राप्त होते ही तुरन्त कार्रवाई अमल में लाई जाये, ताकि मौके पर ही निस्तारण किया जा सके। उन्होंने कहा कि तहसील दिवसों में इसी प्रकार की शिकायतें प्राप्त होती है, यदि सम्बन्धित विभाग समय से जनता की शिकायतें सुनकर निस्तारण करें, तो तहसील दिवस में शिकायतों का ग्राफ कम हो जाये। इसी क्रम में प्रभारी जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि सभी अधिकारी प्रातः 10 बजे से अपरान्ह 12 बजे तक अपने-अपने कार्यालयों में अवश्य बैठें तथा जन समस्याओं को सुनकर मौके पर निस्तारण करें। विधायक उमेेश मलिक व प्रभारी जिलाधिकारी अंकित कुमार अग्रवाल आज तहसील बुढाना में सम्पूर्ण समाधान दिवस पर समस्याओं/शिकायतों का निस्तारण कर रहे थे। आज बुढाना सम्पूर्ण समाधान दिवस में राजस्व विभाग, पुलिस विभाग विद्युत विभाग आदि सम्बन्धित शिकायतें प्राप्त हुई। प्रभारी जिलाधिकारी ने कहा कि अधिकारीगण संवेदनशील होकर शिकायतें सुने और शिकायतकर्ता को भी मौके पर बुला ले और गुणवत्तापूर्ण निराकरण करना सुनिश्चित करें। प्रभारी जिलाधिकारी ने आज सम्पूर्ण समाधान दिवस में पूर्व अनुमति के बिना अनुपस्थित रहने पर दो अधिकारियों जिनमें मनोज शर्मा जेई सिंचाई विभाग पूर्वी यमुना नहर खण्ड शामली एवं रविन्द्र कुमार राणा अधिशासी अभियन्ता सिंचाई पूर्वी यमुना नहर खण्ड शामली का एक दिन के वेतन आहरण पर रोक लगाने के निर्देश दिये। प्रभारी जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि तहसील दिवसों में प्राप्त शिकायतों का निस्तारण मौके पर जाकर जल्द से जल्द करें, साथ ही आईजीआरएस पर प्राप्त शिकायतों का निस्तारण समयावधि में करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि शासन जन समस्याओं के निस्तारण के प्रति गम्भीर है और इसमें उदासीनता एवं लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। उन्होंने कहा कि अब सभी शिकायतें ऑनलाईन की जा रही है इन शिकायतों के निस्तारण की गुणवत्ता की जांच लखनऊ मुख्यालय पर भी नियमित रूप से मॉनिटरिंग की जाती है। उन्होंने बताया कि शिकायतकर्ता को निराकरण के सम्बन्ध में लिखित में जानकारी दें तथा शिकायत के निस्तारण/जांच के समय सम्बन्धित शिकायतकर्ता को साथ अवश्य लें, ताकि सही स्थिति की जानकारी मिले। इस अवसर पर एसडीएम, सीओ, तहसीलदार, बीडीओ सहित सभी जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

Share it
Top