एसएसपी अनन्तदेव तिवारी के फैसले से मिला शादाब को इंसाफ

एसएसपी अनन्तदेव तिवारी के फैसले से मिला शादाब को इंसाफ

मुजफ्फरनगर। शहर कोतवाली पर फर्जी चैक से पैसे निकालने के संबंध में कुछ लोगों पर मुकदमा हुआ था। पुलिस की दबिश और एक मुल्जिम की गिरफ्तारी से आरोपियों ने अपने पडौस में रहने वाली एक महिला से मुकदमे के वादी और उसके भाई के खिलाफ बलात्कार का झूठा मुकदमा दर्ज करा दिया था। एसएसपी ने इस मामले की जांच करायी, तो फर्जीवाडा सामने आ गया, जिस पर उन्होंने मुकदमा खारिज कराते हुए पीडित को न्याय दिला दिया। जानकारी के अनुसार शहर कोतवाली क्षेत्र के मौहल्ला किदवईनगर में एक युवक की हत्या हो गयी थी, जिसमें मुल्जिम जेल चले गये थे। इस मामले में मुल्जिमों के परिजनों ने पीडितों पर फैसले का दबाव बनाया, लेकिन फैसला नहीं हुआ। इसी मामले में आरोपियों ने शादाब और उसके भाई के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया। एक महिला की ओर से बलात्कार का मामला दर्ज कराया गया। घटना की जानकारी एसएसपी को मिली, तो उन्होंने विवेचक से सही तरह से जांच करने को कहा। जांच के दौरान पता चला कि शादाब व उसका भाई घटना के समय अपने घर पर मौजूद थे, जिसकी सीडीआर से पुष्टि हुई। दूसरी ओर बुढाना मोड पुलिस चौकी पर सीसी टीवी कैमरे लगे है, जिसमें उनकी गाडी वहां से नहीं गुजरी। इसके अलावा बुढाना मोड पुलिस चौकी के निकट की घटना बताने के बावजूद तथाकथित बलात्कार पीडित महिला ने पुलिस को सूचना नहीं दी। जांच में पता चला कि वादिया शादाब के द्वारा लिखवाये गये मुकदमे के आरोपी गुपफरान के भाई और रिश्तेदार के साथ पुलिस में घूम रही थी, यहां तक की 164 के बयान के दौरान भी गुपफरान के भाई उसके साथ थे। इन्हीं तथ्यों के आधार पर पुलिस ने यह मुकदमा खारिज कर दिया। शादाब ने एसएसपी का आभार जताया।

Share it
Top