लाभार्थियों के खाते में सीधे स्थानान्तरित होगी पेंशन राशि

लाभार्थियों के खाते में सीधे स्थानान्तरित होगी पेंशन राशि

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश भवन एंव अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा संचालित पेंशन सहायता योजना के अन्तर्गत माह अगस्त 2017 में पजीकृत श्रमिकों क्रमशः रघुराज पुत्र फत्ता, गजे सिंह पुत्रा प्रभु, छत्रपाल पुत्र बलबीर, धर्मपाल पुत्र कृपाराम, रूप सिंह पुत्र कबूल सिंह, रमेश पुत्र रामदिया, चन्दर पुत्र बस्ती, देव प्रकाश पुत्र इन्द्र की पेंशन स्वीकृति जिलाधिकारी द्वारा की गयी है, जो बोर्ड द्वारा भी स्वीकृत की जा चुकी है। उक्त लाभार्थियो की पेंशन रूपये 1000/- प्रतिमाह बोर्ड द्वारा सीधे उनके खाते में अन्तरित की जायेगी। यह पेंशन उनके पूरे जीवनकाल में मिलेगी। यह पेंशन पारिवारिक पेंशन है यदि पेंशनर की मृत्यु हो जाती है तो उसके पति/पत्नी को भी उसके जीवनकाल तक पंेशन मिलेगी। पेंशनर को प्रतिवर्ष अपने जीवित रहने का प्रमाण पत्र देना होगा। पेंशन की धनराशि बोर्ड द्वारा सीधे पेंशनर के खाते मे अन्तरित की जाती है। बोर्ड द्वारा ऐसे पंजीकृत श्रमिकों को पेंशन दी जायेगी, जिनको पंजीयन कराये 3 वर्ष हो चुके हो तथा जिनकी आयु 60 वर्ष पूर्ण हो चुके हो। ऐसे पंजीकृत श्रमिको को भी पेंशन दिये जाने का प्राविधान है, जो 60 वर्ष के पूर्व किसी दुर्घटना या बीमारी में अपंग हो गये है और उनकी अपंगता 50 प्रतिशत या उससेे अधिक है। बोर्ड द्वारा चलायी जा रही विभिन्न योजनाओ का लाभ केवल पंजीकृत निर्माण श्रमिको को ही मिलता है। निर्माण श्रमिको से अपील की जाती है कि वे अपना पंजीयन निकट के जन सुविधा केन्द्र/लोकवाणी केन्द्र पर ऑन-लाईन करा सकते है। इसके अतिरिक्त श्रम विभाग द्वारा लगाये जा रहे विषेश कैम्पो मे भी पंजीयन करा सकते है। पंजीयन हेतु श्रमिक को फोटो, आधार कार्ड की प्रति, 90 दिन निर्माण कार्य का प्रमाण-पत्रा दिया जाना आवश्यक है। सरकार/बोर्ड द्वारा श्रमिको के हित मंे पंजीयन शुल्क रूपये 50/- से घटाकर रूपये 20/- तथा अंशदान शुल्क रूपये 50/- से घटाकर रूपये 20/- कर दिया गया है। जो श्रमिक पंजीकृत है वे रूपये 20/- प्रतिवर्ष की दर से तीन वर्ष का एक साथ अंशदान जमा करा कर नवीनीकरण अवष्य कराते रहे। नवीनीकरण न कराने की स्थिति में श्रमिकों को योजनाओं का लाभ नहीं मिलेगा।

Share it
Top