बाल श्रम उन्मूलन अभियान में पुलिस ने सात बाल श्रमिक मुक्त कराये

बाल श्रम उन्मूलन अभियान में पुलिस ने सात बाल श्रमिक मुक्त कराये

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश शासन के आदेश पर जनपद में 5 सितम्बर से 20 सितम्बर तक बाल श्रम उन्मूलन अभियान चलाया जा रहा है। उक्त अभियान के अन्तर्गत बाल श्रमिकों का चिन्हांकन, दोषी सेवायोजकों के विरूद्ध कार्यवाही, बाल श्रमिकों विषयक वसूली, चिन्हित बाल श्रमिकों को विद्यालयों में प्रवेश दिलाने तथा उनके परिवार के व्यस्क बेरोजगार व्यक्ति के आर्थिक पुनर्वासन का कार्य अभियान चलाकर किया जा रहा है। उक्त अभियान के अन्तर्गत 12 सितम्बर को श्रम प्रवर्तन अधिकारियों एवं एन्टी हृयूमन ट्रेफिंकिंग टीम की संयुक्त टीम द्वारा आर्य समाज रोड पर आटो मोबाइल्स की दुकानों से 7 बाल श्रमिकों को अवमुक्त कराते हुये, उनके मैडिकल परीक्षण कराये गये तथा बाल कल्याण समिति के माध्यम से उनके अभिभावकों को सौंपे गये। चिन्हित बाल श्रमिकों के सेवायोजको के विरूद्ध निरीक्षण टिप्पणी जारी की गयी तथा उनके विरूद्ध बाल श्रम अधिनियम के अन्तर्गत नियमानुसार कार्यवाही अपनायी जायेगी।बाल श्रमिकों से काम लेने वाले सेवायोजकों के विरूद्ध कानून में गम्भीर दण्ड की व्यवस्था की गयी है, जिसके अन्तर्गत दोषी सेवायोजक को छः माह तक की सजा तथा रूपये 50,000/- का जुर्माना सक्षम न्यायालय द्वारा किया जा सकता है। इसके साथ-साथ बाल श्रमिकों के सेवायोजक से रूपये 20,000/- प्रति बाल श्रमिक क्षतिपूर्ति भी वसूली जायेगी। जनसामान्य से अपील की जाती है कि बाल श्रमिकों का नियोजन न करें, यदि कही भी बाल श्रमिकों से कार्य लेने का मामला संज्ञान में आता है, तो उसे सहायक श्रमायुक्त, सरकुलर रोड, मुजफ्फरनगर को सूचित करें, ताकि दोषियों के विरूद्ध कडी वैधानिक कार्यवाही की जा सके।

Share it
Top