भूपखेडी में उपजे जातीय तनाव के बाद पीडित दलितों से हमदर्दी जताने को सियासत शुरू

खतौली। गांव भूपखेडी में उपजे जातीय तनाव के बाद पीडित दलितों से हमदर्दी जताने के लिये सियासत शुरू हो गयी है। शनिवार को रालोद नेताओं ने भूपखेडी पहुँचकर दलितों की पीड़ा सुनकर उन्हें न्याय दिलाने का भरोसा दिया। रालोद के पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी पूर्व सांसद मुंशी रामपाल, पश्चिमी उत्तर प्रदेश के युवा प्रदेशाध्यक्ष रोहित प्रताप, पूर्व मंत्राी योगराज सिंह, जिलाध्यक्ष अजीत राठी, जिला उपाध्यक्ष धर्मेन्द्र तोमर ने दलित बस्ती में जाकर पीड़ितों से उनका हालचाल जानने के बाद फोन पर पुलिस प्रशासन के आला अधिकारियों से वार्ता कर दलितों को न्याय दिलाने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर रालोद नेताओं ने भाजपा सरकार पर प्रदेश में भ्रष्टाचार व गुंडाराज को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि रामराज्य लाने का सपना दिखाकर सत्ता में आयी भाजपा सरकार में चारों और गुंडाराज व्याप्त है। लूट, बलात्कार, हत्या की वारदातें आम हो गयी। पुलिस निरंकुश होकर अपराधियों का संरक्षण व पीडितों का उत्पीडन कर रही है। छेड़खानी की वारदात से उपजे जातीय संघर्ष को पुलिस चप्पल चोरी का मामला बताकर अपनी विफलता पर पर्दा डालने का प्रयास कर रही है। पूर्व सांसद मुंशी रामपाल ने कहा कि भाजपा की कथनी करनी को प्रदेश की जनता अच्छी तरह समझ चुकी है। तथा आने वाले समय में भाजपा को अपने झूठ का खामियाजा भुगतना पडेगा। मुख्य रूप से पश्चिमी जोन प्रवक्ता अभिषेक चौधरी, पुष्पेन्द्र चौधरी, अमित चौधरी, हर्ष राठी, विकास बालियान, पंकज राठी, जगपाल सिंह, विधिक मलिक आदि मौजूद रहे।

Share it
Top